गोपालगंज में मानवीय सम्वेदना तार तार, तीन दिनों से लावारिस पड़ा था अज्ञात भिखारी का शव

गोपालगंज में मानवीय संवेदना को तार तार कर देना का मामला उस वक़्त सामने आया है। जब नगर थाना के भितभैरवा गाँव के समीप नहर में एक अज्ञात वृद्ध का शव तीन से पड़ा हुआ है। शव एक दम सड़ चुका है और उसके लावारिस शव को आवारा कुत्ते अपना निवाला बना रहे है। जन ग्रामीणों का आरोप है की घटना की सुचना तीन दिनों पहले ही जिला प्रशासन और नगर थाना पुलिस को दे दी गयी थी। बावजूद इसके शव को ऐसे ही आवारा पशुओ को निवाला बनाने के लिए छोड़ दिया गया है।

बता दे की नगर थाना के भितभैरवा गावं के बहार यादोपुर जाने वाली सडक के किनारे सूखे नहर में एक अज्ञात अधेड़ व्यक्ति का शव यू ही पड़ा हुआ बरामद हुआ। ग्रामीणों का दावा है की यह शव किसी भिखारी का है। जिसकी ठंढ की वजह से मौत हो गयी है। क्योकि शव के शरीर में कोई कपडा नहीं है। शव ऐसे ही अर्धनग्न पड़ा हुआ था।
शव के आसपास आवारा मवेशी घूम रहे थे। जिसमे लावारिस कुत्ते शव को नोच नोच कर खा रहे थे।

जदयू पूर्व जिलाध्यक्ष व सामाजिक कार्यकर्ता सदानंद सिंह ने बताया की शायद यह किसी भिखारी शव का है। जिसकी पहचान नहीं हो सकी। ऐसी उम्मीद है की ठंढ लगने से उसकी मौत हो गयी हो गयी होगी। तीन दिनों से शव यहाँ ऐसे ही लावारिस पड़ा हुआ है। तीन दिनों पहले ही नगर थाना पुलिस और जिला प्रशासन के आला पदाधिकारियो को दो गयी थी। चौकीदार को भी सुचना दी गयी थी। रोज आवारा कुत्ते इसे अपना निवाला बना रहा था। शव से बदबू लगातार हर तरफ फ़ैल रहा था। एक इन्सान का शव जानवरों की तरह पड़ा हुआ था। यहाँ प्रशासनिक उदासीनता का लापरवाही भरा उदहारण है की कैसे किसी इन्सान का शव जानवर खा रहा था और प्रशासन ऐसे ही मूकदर्शक बना हुआ थी।

जब आवाज़ टाइम्स की टीम ने जिला प्रशाशन को इस लावारिस शव की जानकारी दी तब इसके बाद जिला प्रशासन और जिला पुलिस हरकत में आई और तीन दिनों से पड़े लावारिस शव को वहा से उठा करा पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल में लाया गया। जहाँ लावारिस शव का पोस्टमार्टम किया गया। नगर थाना की पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी है।

बहरहाल सरकार के द्वारा अज्ञात शवो के अंतिम संस्कार को सुचारू ढंग से संपन्न कराने के लिए कई मद और कई योजनाओ है। लेकिन धरातल पर इन योजनाओ की शायद ऐसी ही हकीकत है। जब किसी मृत इन्सान को सरकार और प्रशासन आवारा पशुओ को निवाला बनाने के लिये ऐसे ही छोड़ दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!