गुजरात में 2000 रुपये के नए नोटों में दी गई 2.9 लाख की रिश्वत

भ्रष्टाचार निरोधी ब्यूरो (ACB) ने करप्शन के आरोपों के तहत कंडाला बंदरगाह के 2 अधिकारियों को पकड़ा है। इन अधिकारियों के साथ-साथ उनके बिचौलियों को भी गिरफ्तार किया गया है। ACB ने उनके पास से 4.4 लाख रुपये की रिश्वत भी बरामद।

इनमें से एक के घर से 40,000 रुपये घूस की अतिरिक्त रकम भी बरामद की गई. सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि घूस की यह पूरी 2.9 लाख की रकम नए 2000 रुपये के नोटों में थी इस नए नोट को 11 नवंबर को लॉन्च किया गया था।

एनडीटीवी की खबर के अनुसार,  गुजरात एंटी करप्शन ब्यूरो के अधिकारियों ने बताया कि कांडला पोर्ट ट्रस्ट के सुपरिटेंडिंग इंजीनियर पी श्रीविवासु और सब डिवीजनल ऑफिसर के. कोमतेकर ने एक प्राइवेट इलेक्ट्रिकल फर्म के पेंडिंग बिलों के भुगतान के लिए 4.4 लाख रुपये की रिश्वत मांगी थी।

इन दोनों अधिकारियों के बिचौलिये रुद्रेश्वर ने 15 नवंबर को इस रकम के एक हिस्से के रूप में 2.5 लाख रुपये लिए।

एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी) ने जाल बिछाकर इस बिचौलिये को पकड़ लिया। फर्म के मालिकों ने दोनों अधिकारियों द्वारा रिश्वत मांगे जाने के बारे में एसीबी को पहले ही जानकारी दे दी थी।

श्रीविवासु के घर से भी 40,000 रुपये बरामद किए गए। अधिकारियों ने बताया कि श्रीविवासु ने कबूल किया कि यह रकम रिश्वत के उस डील का ही हिस्सा है. एसीबी अब इस बात की जांच कर रही है कि ये करेंसी नोट कैसे हासिल किए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!