ह्रदय गती रुकने से कुचायकोट अंचल पदधिकारी अमित रंजन की गोरखपुर में हुई मौत

गोपालगंज जिला के कुचायकोट अंचल पदधिकारी अमित रंजन की 25 जनवरी 2017 को सुबह करीब चार बजे अचानक तबियत खराब हो गया जिनको इलाज के लिए गोरखपुर लेजाया गया जहा पर उनकी मौत हो गया अमित रंजन सिवान जिला के तरवार निवासी रामबिलास श्रीवास्तव के दो पुत्र में बड़ा पुत्र थे जबकी छोटा पुत्र NTPC दिल्ली में इंजीनियर के पद पर तैनात है अमित रंजन
12.05.2015 से कुचायकोट अंचल पदधिकारी थे इसके पहले छपरा जिला के दरियापुर में अंचल पदधिकारी थे अमित रंजन कुचायकोट में ही अपने सरकारी निवास में अपने माता कामनी सिन्हा और पिता रामबिलास श्रीवास्तव के साथ रहते थे  जबकि उनकी पत्नी आशा श्रीवास्तव  अपने बच्चो को पड़ने के लिए एक बेटा और एक बेटी के साथ पटना में रहती है अमित रंजन की मौत के बाद उनकी पार्थी शरीर को कुचायकोट लाया लगा जहा पर गोपालगंज जिला के जिला पदधिकारी श्री राहुल कुमार ने पहुच कर उनकी पार्थी शरीर पर फुल माला चढ़ाये और गहरा शोक बेक्त किये साथ ही 26 जनवरी को कुचायकोट प्रखंड के मटिहिनिया गांव के समीप गंडक नदी के किनारे अमित रंजन की अंतिम बिदाई में भी सामिल हुय इनके साथ इस मोके पर SDO मिर्तुजय कुमार SDPO मनोज कुमार कुचायकोट थाना प्रभारी राजेश कुमार गोपालपुर थाना प्रभारी अजय कुमार बिशम्भरपुर थाना प्रभारी विकास कुमार अपने अपने थाना के पुलिस के जवानों के साथ महजूद थे ओही जिला के सभी अंचल पदधिकारी तथा प्रखण्ड विकास पदअधिकारी और कुचायकोट प्रखंड के 31 पंचायतो के मिखिया BDC एवम तमाम गणमान्य नेतावो के साथ साथ हजारो की संखेया में आम जनता भी महजूद रही अमित रंजन के 18 साल के बेटा श्रेयांस रंजन ने जब अपने पिता और कुचायकोट के लोक प्रिये CO को मुख अग्नि दिया दो अहा महजूद हर किसी की आँखे नम हो गया जिला अधिकारी श्री राहुल कुमार ने श्रेयांस रंजन को समझते हुए कहा की जोभी इस दुनिया में आया है उसे एक ना एक दिन जाना ही है इस लिए अपने आप को सम्भलो हम तुमरे साथ है कभी भी हमारी जरूरत पटे हमे याद करना हर सम्भव तुमारी मद्त की जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!