गोपालगंज: रामायण, कुरान सहित दो हजार पुस्तकों से लैस हुआ जमुनहां पुस्तकालय, डीएम करेंगे उद्घाटन

गोपालगंज: बरसों से बदहाली की मार झेल रहा पंचदेवरी के जमुनहां स्कूल का राजकीय पुस्तकालय एक नए रूप में दिखने लगा है। रामायण, भागवत, कुरान सहित दो हजार पुस्तकों से प्रखंड स्तरीय पुस्तकालय जमुनहां लैस हो गया है। डीएम डॉ नवल किशोर चौधरी के निर्देश के आलोक में इसके कायाकल्प की तैयारी लगभग पूरी कर ली गई है। अगले दस दिनों में इसकी रूपरेखा को अंतिम रूप देकर उद्धघाटन की प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।

इसकी जानकारी देते हुए स्कूल के प्रचार्य डॉ दुर्गा चरण पाण्डेय ने बताया कि स्कूल में सभी सुविधाओं से लैस प्रखंड स्तरीय पुस्तकालय की जरूरत काफी दिनों से महसूस की जा रही थी। खासकर ऐसा पुस्तकालय जो आज के डिजिटल युग के युवाओं की जरूरतों को पूरा करता हो। इस पुस्तकालय में एक साथ 50 लोग बैठकर अध्ययन कर सकते हैं। बच्चे से लेकर बूढ़े तक के पढ़ने के लिए पुस्तकों को मंगाया गया है। उन्होंने बताया कि जमुनहां स्कूल की स्थापना क्षेत्र के समाजसेवियों के द्वारा 1959 में की गई थी। जबकि सरकार ने इससे 1980 में मान्यता दी। तभी इस स्कूल में पुस्तकालय की स्थापना भी हुई। एक वर्षों तक पुस्तकालय तो दिखा। लेकिन, एक वर्षों के बाद हीं पुस्तकालय मृत पाय हो गया। पुस्तकालय में सिर्फ अलमारियां ही दिख रही थी। तीन दशक में कई जिला पदाधिकारी भी बदले, स्कूल के एक दर्जन से अधिक प्रचार्य भी बदलें। लेकिन, किसी ने पुस्तकालय की सुध लेने की जहमत तक नहीं की। वर्तमान जिला अधिकारी के निर्देश के बाद इस पुस्तकालय को प्रखंड स्तरीय पुस्तकालय का दर्जा दिया गया। अब यह पुस्तकालय आधुनिक सुविधाओं से लैस है।

जिला अधिकारी ने विभाग के अधिकारियों के साथ मंत्रणा कर 10 मार्च 2022 में पुस्तक दान महा अभियान की शुरुआत की। महाअभियान के तहत शहरी क्षेत्र में वाहन का भ्रमण कराया गया। डीएम के इस पहल की सराहना करते हुए शहर के लोगों ने उनका साथ दिया। पुस्तक दान महाअभियान से जुड़कर लोग पुस्तक दान कर कर रहे हैं। इस महाअभियान को व्यापक रूप देते हुए प्रखंड स्तर पर एक एक पुस्तकालय खोले गए।

स्कूल के प्राचार्य डॉ दुर्गाचरण पांडेय ने बताया कि छात्र-छात्राओं की उपस्थिति पुस्तकालय में बढ़ रही है। स्थिति यह है कि पुस्तकालय विद्यार्थियों से भरा रह रहा है। इसे देखते हुए स्टडी टेबल व कुर्सी की संख्या और बढ़ाई जाएगी। समय – समय पर उपलब्ध संसाधनों की समीक्षा भी कराई जाएगी।

जिला शिक्षा पदाधिकारी राजकुमार शर्मा ने बताया कि जिला पदाधिकारी के उत्प्रेरणा और निर्देश पर जन सहयोग से प्रखंड स्तर पर एक – एक पुस्तकालय खोले गए हैं। अब पंचायत स्तर पर यह कवायद की जाएगी। पंचायत मुख्यालय के एक सरकारी स्कूल का एक कमरा पुस्तकालय के लिए चयनित किया जाएगा। चयनित कमरे में पुस्तकालय खोला जाएगा। इसके लिए भी पुस्तक दान अभियान चलाया जाएगा।

.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected By Awaaz Times !!