गोपालगंज सदर अस्पताल स्थित आईसीयू में वेंटिलेटर मशीन टेक्नीशियन की कमी से बनी शोभा की वस्तु

गोपालगंज सदर अस्पताल स्थित आईसीयू में वेंटिलेटर मशीन टेक्नीशियन की कमी के कारण शोभा की वस्तु बन कर रह गया है। सदर अस्पताल में 6 वेंटिलेटर मशीन लगाए गए हैं। लेकिन एक भी वेंटिलेटर मशीन से मरीजों को पर्याप्त चिकित्सकीय सुविधा नहीं मिल पा रही है। जिसके कारण मरीजों को हायर सेंटर में रेफर कर दिया जा रहा है। कोरोना वायरस को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग बंद पड़े आईसीयू को पुनः चालू कराने के प्रयास में लगा है। साथ ही 6 वेंटिलेटर मशीन को लगाया गया है। लेकिन टेक्निकल डॉक्टर के अभाव के कारण यह वेंटिलेटर मशीन मरीजों के लिए किसी काम के नहीं हैं। अब ऐसे में यह वेंटिलेटर मशीन सिर्फ और सिर्फ शोभा की वस्तु बनकर रह गए हैं।

इस संदर्भ में सिविल सर्जन डॉ योगेंद्र महतो ने बताया कि टेक्निकल डॉक्टरों की बहाली के लिए कई बार मुख्यमंत्री को पत्र लिखा गया। लेकिन अभी तक किसी तरह की कोई पहल नहीं हुई है। कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन की व्यवस्था की गई है। मरीजों को ऑक्सीजन की कमी नहीं होने दी जाएगी। मरीजों के लिए पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन सिलेंडर मौजूद है।

बता दें कि कोरोना के प्रकोप के बाद अब सरकार ने सख्ती बढ़ा दी है। पटना में बुधवार को सीएम नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई मीटिंग के बाद अधिकारियों ने बताया कि अब राज्य में 12 घंटे का नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है। हो सकता है कि नाइट कर्फ्यू के बाद कोरोना का चेन ब्रेक हो लेकिन मौजूदा वक्त में स्थिति यह है कि एक तरफ जहां मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो रही तो दूसरी तरफ अस्पतालों में भर्ती मरीज एक के बाद एक दम तोड़ रहे हैं, और उसका मुख्य कारण है पर्याप्त मात्रा में हॉस्पिटलों में वेंटिलेटर की व्यवस्था नहीं होना, अस्पतालों में वेंटिलेटर बेड खाली नहीं हैं। इस कारण मरीजों को हायर सेंटर रेफर किया जा रहा है। बेड खाली ना होने के कारण उन्हें वापस लौटाया जा रहा है। सदर अस्पताल में लाखों रुपए की लागत से 6 वेंटिलेटर मशीन लगाये गये हैं। लेकिन कोरोना काल में भी मशीनों का संचालन नहीं हो पाया है। वेंटिलेटर मशीन रहने के बाद भी लगातार मरीजों की मौत हो रही है. जिसे लेकर अब कई तरह के सवाल उठ रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!