Mon. Aug 26th, 2019

थानाध्यक्ष की मोर्निंग वाक के दौरान सरेआम गोली मारकर हत्या

बिहार में एक बार फिर अपराधियों का खौफ बढ़ता जा रहा है. बिहार में आम इंसान तो रहने ही दीजिए पुलिस वाले भी अब सुरक्षित नहीं है. अभी कुछ ही दिन पहले पटना शहर के बीचोबीच दरोगा को सरेआम गोली मार दिया गया था और एक बार फिर से आज बेख़ौफ़ अपराधियों ने गया में पुलिसकर्मी को निशाना बनाया है.

घटना गया के कोठी का है जहाँ थानाध्यक्ष कयामुद्दीन अंसारी रोज़ की तरह सुबह सुबह मोर्निंग वाक् के लिए निकले थे. सुबह का लगभग 7 बज रहा था. तभी कुछ अज्ञात अपराधी आए और उनपे गोलिया बरसना शुरू कर दिया. थानाध्यक्ष कयामुद्दीन को 6 गोलिया लगी. अपराधियों को इतने से ही तस्सली नहीं मिली तो गोली मारने के बाद थानाध्यक्ष पर चाकू से ताबरतोड़ हमला भी किया. जिससे घटना स्थल पर ही थानाध्यक्ष कयामुद्दीन की मौत हो गई. थानाध्यक्ष कयामुद्दीन अंसारी 2009 बैच के दारोगा थे। थानाध्यक्ष कयामुद्दीन 2009 बैच के दारोगा थे जो की औरंगाबाद के अलीनगर के रहने वाले थे. कलुमुद्धीन अंसारी काफी निडर थे.

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार हत्याकांड में गया के पूर्व जिला परिषद् शाने अली का हाथ हो सकता है. शाने अली ने कई बार कयामुद्दीन अंसारी को अंजाम भुगतने की धमकी दी थी. शाने एक कुख्यात अपराधी है जो की सन लाइट सेना के नाम से एक ग्रुप चलता है और कई बार जेल जा चूका है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!