सेना के मुख्यालय पर बडा आतंकी हमला, 17 जवान शहीद,4 आतंकी ढेर

जम्मू-कश्मीर के उरी स्थित सेना के ब्रिगेड मुख्यालय पर रविवार सुबह पठानकोट से भी बडा आतंकी हमला हुआ। इस आतंकी हमले में 17 जवान शहीद हो गए है। सेना के 10 जवान घायल बताए जा रहे है। वहीं, सेना ने चार आतंकवादियों को मार गिराया है। इसके साथ ही करीब चार घंटे से जारी सेना का ऑपरेशन भी खत्म हो गया है। यह हमला 12 ब्रिगेड मुख्यालय पर सुबह 5.30 बजे के आसपास हुआ। यह ब्रिगेड मुख्यालय उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के उरी में है। आतंकवादियों ने शिविर के अंदर प्रवेश किया और गोलीबारी करना शुरू कर दिया। लाइन ऑफ कंट्रोल के नजदीक उरी सेक्टर में मौजूद आर्मी बेस में एक बैरक में हमलावरों ने आग लगा दी है।

इस हमले में सेना के 17 जवान शहीद हो गए। वहीं, 10 जवान घायल बताए जा रहा है, जिनमें से कई की हालत गंभीर बताई जा रही है। हालात संभालने के लिए पैराकमांडो की टीम को मौके पर एयरड्रॉप किया गया है। इसके बाद सेना ने बडी कामयाबी हासिल की और हमला करने वाले चार आतंकियों को मार गिराया। इसी के साथ ही सेना ऑपरेशन खत्म हो गया है।

कश्मीर में मौजूदा हालात को देखते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने विदेशी दौरे को टाल दिया है। वे अमेरिका और रूस जाने वाले थे। राजनाथ ने दिल्ली में इमरर्जेंसी मीटिंग बुलाई है। आईबी और रॉ के अफसर बैठक में शामिल हैं। होम मिनिस्टर ने हालात को लेकर जम्मू-कश्मीर के गवर्नर और सीएम महबूबा मुफ्ती से बात की।

अब यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि क्या इन आतंकवादियों ने पाकिस्तान सीमा की ओर से भारतीय सीमा में घुसपैठ की या फिर यह हमला यहीं पर संचालित किसी आतंकवादी संगठन का है। माना जा रहा है कि यह फिदायीन हमला हो सकता है।

कश्मीर के बारामूला जिले में आतंकी इससे पहले भी सेना को निशाना बना चुके हैं। 10 सितंबर को कश्मीर में 3 जगहों पर घुसपैठ की कोशिशें हुई थी। हंदवाड़ा के नौगाम में एलओसी से घुसपैठ कर रहे 4 आतंकियों को आर्मी ने मार गिराया। वहीं, घुसपैठ की कोशिश की दूसरी घटना गुरेज और तीसरी तंगधार में हुई। तीनों कोशिशों को आर्मी ने नाकाम कर दिया। एक पुलिस कॉन्स्टेबल शहीद हो गया, जबकि एक सब इंस्पेक्टर और दो सिविलियंस जख्मी हो गए थे। 17 अगस्त को बारामूला जिले में आतंकी हमले में 3 सुरक्षाकर्मी शहीद हो गए, जबकि तीन घायल हो गए। 15 अगस्त को श्रीनगर में आतंकी हमला हुआ था जिसमें सीआरपीएफ का एक कमांडेंट शहीद हो गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!