गोपालगंज: 2142 स्कूल करेंगे इस वर्ष स्वच्छता पुरस्कार के लिए आवेदन, 31 दिसंबर तक करेंगे नामांकन

गोपालगंज: बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2022-23 को ले तैयारी शुरू कर दी गई है। इसके लिए सरकारी विद्यालय आवेदन करेंगे। पुरस्कार के लिए विद्यालयों को ऑनलाइन आवेदन करने का मौका दिया गया है। जिले की 1052 प्राथमिक, 598 मध्य, 246 उच्च विद्यालयों के साथ 246 उच्च माध्यमिक विद्यालय पुरस्कार के लिए आवेदन करेंगे।

सरकारी विद्यालयों में साफ-सफाई व सुरक्षा को ले जागरूकता लाने के लिए बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार की शुरुआत यूनिसेफ के सहयोग से की गई है। जिसके अंतर्गत स्वच्छ विद्यालय में न्यूनतम सुविधाएं जिसमें पेयजल, शौचालय, हाथ धुलाई केंद्र, रखरखाव क्षमता निर्माण आदि है। बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के लिए सभी विद्यालयों को रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य किया गया है। इसका उद्देश्य विद्यालयों में स्वच्छता को बढ़ावा देना है। बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार योजना में सभी सरकारी विद्यालयों को पंजीकरण कराना होगा। दरअसल बिहार सरकार ने यूनिसेफ के सहयोग से बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार की शुरूआत की है।

सभी विद्यालय 31 दिसंबर तक करेंगे स्वनामांकन : जिले की सभी सरकारी प्राथमिक, मध्य, उच्च व उच्च माध्यमिक विद्यालय पुरस्कार के लिए 31 दिसंबर तक ऑनलाइन तरीके से स्व नामांकन करेंगे। सभी विद्यालयों के स्व आकलन प्रक्रिया की शुरुआत 15 नवंबर से शुरू हो चुकी है। दूसरे चरण में विद्यालयों के स्व नामांकन के लिए 15 से 31 दिसंबर तक का समय दिया गया है। तीसरे चरण के तहत सभी सरकारी विद्यालयों का भौतिक सत्यापन एक से 31 जनवरी के बीच किया जाएगा। चौथे चरण के तहत विद्यालयों का राज्यस्तरीय भौतिक सत्यापन एक से 28 फरवरी तक किया जाएगा। विद्यालयों के चयन के बाद जिला व राज्य स्तर पर पुरस्कार वितरण 22 मार्च बिहार दिवस पर किया जाएगा।

पिछली बार पंचदेवरी ने जिता था पुरस्कार: बिहार विद्यालय स्वच्छता पुरस्कार के लिए 2021-22 में जिले की चार विद्यालयों का चयन किया गया था। जिनमें मांझा के दो, हथुआ के एक और पंचदेवरी के एक विद्यालय का चयन किया गया था। यह पहला मौका था जब जिले की चार विद्यालयों को इतने बड़े पुरस्कार के लिए चयनित किया गया था। राज्य स्तर पर पंचदेवरी के गहनी चकिया को सम्मानित किया गया था। लेकिन, इस बार जिला प्रशासन व शिक्षा विभाग के निर्देश के बाद भी सरकारी विद्यालयों की साफ-सफाई बेहतर नहीं दिख रही है।

वहीं जिला शिक्षा पदाधिकारी राजकुमार शर्मा ने कहा की बिहार स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के लिए ऑनलाइन आवेदन देने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। जिले की सभी सरकारी विद्यालयों को इसके लिए आवेदन देना होगा। साफ-सफाई को ले सभी विद्यालयों को दिशा-निर्देश जारी किये गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!