राजदेव हत्याकांड का सच जाने कब, किसने और कैसे किया !

आखिरकार 12 दिनों के लंबे इंतज़ार के बाद पुरे  देश भर के पत्रकारो व बुद्दिजीवियों झकझोर देने वाले हत्याकांड का पर्दाफाश हुआ है।पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में पुलिस ने पांच भाड़े के शूटररों को यूपी के एक गाव से गिरफ्तार कर लिया है। हत्या में प्रयोग किए हथियार पिस्टल ,कट्टा व् गोली और 3 बाइक भी इन लोगों के पास से बरामद कर लिया गया है। हत्या कांड में शामिल अपराधियो जिसमे रोहित कुमार जिसकी पहचान मुख्य शूटर के तौर पर हुई है, विजय कुमार,राजेश कुमार,यीशु कुमार,सोनू कुमार गुप्ता है। इनलोगो ने अपना अपराध भी स्वीकार कर लिया है। साथ ही इन शूटरों ने बताया है कि लड्डन मियां के द्वारा सुपारी दिये जाने के बाद पत्रकार राजीव रंजन की हत्या की थी। लड्डन मियां राजद के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन के खासम खास में शुमार रहे हैं। वही अब तक हत्या की वजहों का खुलासा नहीं हो पाया है। हत्या के कारणों के खुलासे खातिर पुलिस लगातार गिरफ्तार किए गए आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

सुपारी देने के आरोपी लड्डन का भी लंबा चौड़ा आपराधिक इतिहास रहा है। लड्डन मियां पर मर्डर और किडनैपिंग समेत एक दर्जन से ज्यादा केस दर्ज हैं। लड्डन खुद भी एक शूटर रहा है। 2014 में सीवान में हुए सांसद ओमप्रकाश के पीआरओ श्रीकांत भारती की हत्या के मामले में भी लड्डन मियां का नाम आया था। इसी मामले में विगत माह 24 अप्रैल को ही लड्डन सिवान जेल से जमानत पर बाहर आया है। वही मोबाइल सर्विजलेन्स की मदद से इस बात का भी पता चला है कि 13 मई की रात जब राजदेव रंजन का मर्डर किया गया तब लड्डन घटना स्थल के आसपास ही मौजूद था। पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए जब उसके पैतृक घर रेड डाली तो वह अपने परिवार समेत फरार हो चूका था।

वही बकौल गिरफ्तार शूटरों के 13 मई को पत्रकार राजदेव कक हत्या तब की गई जब राजदेव रंजन अपने दफ्तर से निकलकर घर जा रहे थे। सीवान स्टेशन के समीप दो मोटर साइकल सवारों ने उन्हें रोका था। बाइक पर सवार दोनों ने राजदेव रंजन से एक न्यूज़ के लिए बात कर उनको बातो में उलझा लिया। फिर खबर देने खातिर उनका विसिटिंग कार्ड माँगा, जैसे ही राजदेव अपनी बाइक को रोक कर पर्स से विसिटिंग कार्ड निकालकर देने लगे, हत्यारो की इस टोली में शामिल रोहित ने अपनी पिस्टल निकाल ली और राजदेव के पेट में सटा दिया। वही दुसरे युवक ने जैसे ही विसिटिंग कार्ड से कन्फर्म किया की यही राजदेव हैं पहले वाले ने गोली चला दी। गोली लगते ही राजदेव बाइक से नीचे गिर गए और फिर हमलावरों ने दूसरी गोली राजदेव के ठीक सर के बीचो बीच मारी। दोनों ने हिला कर देखा भी की मौत हो गई है इसके बाद वे दोनों हवाई फायरिंग करते हुए निकल गए।

वही अन्य सूत्रो का दावा है कि घटना के महज 2 दिनों के अंदर पुलिस को लड्डन मियां की संलिप्तता के सुराग मिल गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!