आईआईटी का एक्जाम क्रैक करने के बाद भी लड़की ने जान दे दी

राजस्थान के कोटा में एक दर्दनाक घटना हुई है। अपने सपनो का गला घोटकर एक छात्रा ने अपने अरमानों को तो पहले ही मार दिया था, लेकिन आज उसने अपनी चलती धड़कनों को भी रोक दिया।17 साल की तृप्ति त्रिपाठी पढ़ाई में बेहद होशियार थी। मां पिता की इच्छा थी कि बेटी आईआईटी में पढ़े लेकिन वो कुछ और ही करना चाहती थी।परिजनो के दबाव के आगे तृप्ति की एक न चली और उसने 5 मंजिला इमारत से कूद कर जान दे दी। पर माँ बाप को आईआईटी एग्जाम पास कर के दिखा गई।

कोटा के एसएसपी ने मीडिया को बताया कि 17 साल की तृप्ति त्रिपाठी की आत्महत्या के मामले में पहली नजर से ऐसा प्रतीत होता है कि लड़की इंजिनियरिंग में अपना करियर नहीं बनाना चाहती थी। इसी वजह से आत्महत्या कर ली। छात्रा ने आत्महत्या के पीछे एक नोट भी छोड़ा है।

लड़की ने अपनी चिट्ठी में लिखा है कि फिजिक्स, मैथ और केमेस्ट्री जैसे सब्जेक्ट मुझे बिल्कुल अच्छे नहीं लगते थे। लेकिन मां ने फिर भी मुझे साइंस दिला दी। आपको बता दें कि तृप्ति ने आईआईटी के एक्जाम में 144 स्कोर किया था। जबकि जनरल कोटे में 100 नंबर कटऑफ था। लड़की अपनी मां के साथ गाजियाबाद में रहती थी। पुलिस अवसाद का मामला मानकर छानबीन कर रही है।

आईआईटी के स्कोर कार्ड मालूम चलता है कि बिना दिलचस्पी के जब इंजिनियरिंग का इतना मुश्किल एक्जाम क्लियर कर लिया था वो भी इतने शानदार स्कोर के साथ, तो क्या होता अगर सब्जेक्ट मनपंसद होता। हर साल इस तरह के मामले देखने में आते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!