नेपाल भूंकप की आज पहली बरसी

नेपाल में आए विनाशकारी भूकंप को आज एक साल पूरे हो गए। इस भूकंप में 9 हजार लोगों की जान गई थी और अरबों डॉलर की संपत्ति का नुकसान हुआ था। इस भयंकर आपदा में जिंदगी गंवाने वाले लोगों को याद करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी गई।

नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने भूकंप में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी और दिवंगत लोगों की आत्माओं की शांति की कामना करते हुए कहा कि सरकार 31 लाख 19 हजार प्रभावित लोगों को अपने-अपने मकानों को दोबारा बनाने के लिए पात्रता प्रमाणपत्र बांट रही है, ताकि वे दी जाने वाली अनुग्रह राशि को पा सकें।

  • 25 अप्रैल 2015 को भूकंप ने नेपाल को हिला दिया था।
  • यह भूकंप नेपाल के लिए बहुत विनाशकारी था।
  • 7.9 तीव्रता का था भूकंप।
  • इसने लाखों परिवारों को विस्थापित करने के साथ-साथ देश की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह से प्रभावित किया।
  • इस भूकंप और इसके बाद आए झटकों ने काठमांडू सहित मध्य नेपाल को प्रभावित किया था तथा इसमें 22,000 लोगा घायल भी हुए थे।
  • इस भूकंप के चलते पूरे नेपाल में सड़को का बुरा हाल है नेपाल की अर्थव्यवस्था पर्यटन पर निर्भर करती है।

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो भूकंप के बाद भी नेपाल में कुछ ठीक नहीं है। वहां की स्थानीय मीडिया ने देश में किसी आपदा से निपटने की तैयारियों पर चिंता जाहिर की है। अखबारों ने पुनर्निमाण के काम में देरी के लिए सरकार की आलोचना की है क्योंकि लाखों लोग अब भी बेघर बताए जाते हैं।

  • भूकंप की वजह से आज भी लाखों लोग टेंटों में रहने को मजबूर हैं।
  • ये लोग नेपाली सरकार पर आरोप लगा रहे हैं कि सरकार इनकी समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रही है।
  • नेपाली अखबार हिमालयन टाइम्स ने लिखा है कि विनाशकारी भूकंप की हालत में बचाव कार्यों को बेहतर बनाने को लेकर कोई ख़ास कोशिश नहीं की गई है।
  • भूकंप के बाद काठमांडू में हुए दानदाता सम्मेलन में दानदाता एजेंसियों ने 4.5 अरब डॉलर से अधिक दान देने का वादा किया था, लेकिन नेपाल सरकार महज एक अरब डॉलर ही हासिल कर पाई।
  • अभी तक पुनर्निर्माण के लिए जरूरी राशि का मात्र तीन फीसदी ही जारी किया गया है।
  • 770,000 हजार परिवार घर विहीन हैं।
  • अभी तक 5% से भी कम घरों की मरम्मत की जा सकी है।
  • अभी तक सिर्फ 641 परिवार ही हैं जिन्हें घर दुबारे ठीक कराने के लिए आर्थिक मदद मिली है।
  • नेपाल में करीब 10 लाख बच्चों के पास कोई स्कूल नही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!