चीनी मीडिया ने भारत को बताया ‘खूबसूरत महिला’

चीन की ओर से भारत के खिलाफ काफी विवादित टिप्पणी की गई है। चीनी मीडिया ने कहा कि भारत एक ऐसी सबसे खूबसूरत महिला बनना चाहता है जिसे सभी खासकर अमेरिका और चीन अपनी ओर लुभाएं। भारत के रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने चीनी अधिकारियों के साथ वार्ता के लिए आज से चीन की अपनी पहली यात्रा शुरू की है।

ऐसे में सरकारी समाचार पत्र ग्लोबल टाइम्स ने एक लेख में कहा, उनके पारंपरिक अविश्वास के बावजूद भारत, अमेरिका के गठबंधन की अटकलें लगाना महाशक्तियों के बीच झूलने वाले देश की भूमिका निभाने की भारत की महत्वाकांक्षा को स्पष्ट रूप से कम करके आंकना है। एलएसए हस्ताक्षर को रोक रहा भारत-अमेरिका का रणनीतिक अविश्वास शीर्षक से लेख में कहा गया है, मूल बात यह है कि भारत सबसे खूबसूरत महिला बने रहना चाहता है जिसे सभी पुरुष, खासकर दो सबसे मजबूत देश यानी अमेरिका और चीन लुभाएं।

उसने कहा, यह भारत के लिए यह कोई नई भूमिका नहीं है। हम अब भी याद कर सकते है कि अपनी कूटनीतिक चतुराई के कारण किस प्रकार उसने शीत युद्ध के दौरान दो प्रतिद्वंद्वी धड़ों के बीच विशेष भूमिका हासिल की थी।

अमेरिका के रक्षा मंत्री एश्टन कार्टर ने पिछले हफ्ते भारत की तीन दिवसीय यात्रा में घोषणा की थी कि वह और उनके भारतीय समकक्ष ने इस मामले में सैद्धांतिक सहमति जताई है कि लॉजिस्टिक सपॉर्ट समझौते (एलएसए) संबंधी सभी मसलों को सुलझा लिया गया है और दोनों पक्ष आगामी हफ्ते में इसका मूलपाठ तैयार कर लेंगे।

समाचार पत्र ने एलएसए पर हस्ताक्षर करने के भारत के निर्णय को रेखांकित करते हुए कहा कि साजो सामान के विनिमय संबंधी समझौते ने अंतरराष्ट्रीय मीडिया में ये अटकलें शुरू कर दी हैं कि दोनों पक्ष चीन को नियंत्रित करने के लिए एक ही नौका में सवार हैं। उसने कहा कि एलएसए का मकसद ईंधन भरने और मरम्मत करने समेत साजो सामान संबंधी कार्यों के लिए सैन्य अड्डों को साझा करना है। समाचार पत्र ने कहा, इसलिए यह एक्वीजिशन ऐंड क्रॉस सर्विसिंग अग्रीमेंट (एसीएसए) के बहुत मिलता जुलता है।

अमेरिका ने अपने कई नेटो सहयोगियों के साथ यह समझौता किया है। उसने कहा, इसलिए ये अटकलें लगाई जा रही है कि दोनों पक्ष एक सैन्य गठबंधन समझौता करने की दिशा में आगे बढ़ रहे है। समाचार पत्र में भू राजनीतिक तनाव से भारत अपने हित साधना चाहता है शीर्षक के तहत छपे एक अन्य लेख में कहा गया है कि एलएसए भारत और अमेरिका को एक अघोषित सैन्य गठबंधन की ओर ले जा रहा है। समाचार पत्र में छपे लेख में कहा गया है, भारत के कूटनीतिक दांव पेंच से चीन-रूस-भारत त्रिकोण और ब्रिक्स के बीच सहयोग को नुकसान पहुंचने का खतरा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!