श्रीनगर में NIT छात्रों पर लाठीचार्ज, CRPF तैनात

श्रीनगर NIT में मंगलवार को एक बार फिर से तनाव पैदा हो गया, जब बाहरी राज्यों के छात्रों ने असुरक्षा की भावना जाहिर की और परिसर छोड़ने का प्रयास किया। इस वजह से उनका पुलिस के साथ टकराव हुआ और पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा, जिससे कुछ छात्र घायल हो गये।

स्थिति तनावपूर्ण होने पर, CRPF को मंगलवार रात परिसर में तैनात कर दिया गया और जम्मू-कश्मीर सरकार ने यहां अन्य राज्यों से पढ़ने आने वाले छात्रों को पूरी सुरक्षा का आश्वासन दिया। केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को फोन करके एनआईटी की स्थिति पर चर्चा की।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि कुछ गैरस्थानीय छात्रों ने परिसर छोड़ने और अपने गृह राज्य वापस जाने का प्रयास किया। उनका कहना था कि वे परिसर में सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि एनआईटी में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने छात्रों को फिर से आश्वासन देने का प्रयास किया कि वे परिसर में सुरक्षित हैं लेकिन वे शांत नहीं हुए।

अधिकारी ने दावा किया कि एक प्रमुख अधिकारी जब उनसे बात कर रहे थे कुछ छात्रों ने कथित रूप से नारेबाजी शुरू कर दी और उन्हें पीछे धकेला। अधिकारी ने कहा कि अन्य पुलिसकर्मियों ने हिंसक होते छात्रों को तितर बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया। अधिकारी ने कहा कि हालांकि स्थिति थोड़ी देर में नियंत्रण में आ गई।

वहीं दूसरी ओर बाहरी राज्यों के छात्रों का आरोप है कि वे धरना दे रहे थे और पुलिस ने बलपूर्वक लाठीचार्ज किया और उन्हें एनआईटी गेट से बाहर नहीं जाने दिया। उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह ने कहा, हम एनआईटी श्रीनगर में पढ़ने वाले देश के विभिन्न राज्यों के छात्रों की सुरक्षा का आश्वासन देते हैं। परिसर में सीआरपीएफ की अतिरिक्त सुरक्षा की तैनाती की गई है।

सिंह ने शिक्षा राज्यमंत्री प्रिया सेठी के साथ मिलकर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और डीजीपी के राजेंद्र तथा निदेशक एनआईटी से बात की। सिंह ने कहा, एनआईटी के प्रशासन द्वारा इन छात्रों में भरोसा पैदा करने के लिए सभी उपाय किये जा रहे हैं और उनके द्वारा उठाए गए मुद्दों को सुलझाया जा रहा है।

दिल्ली में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा कि वे संस्थान के प्रबंधन संपर्क में हैं और एनआईटी के निदेशक ने छात्रों से बात की है ताकि हालात सामान्य हो सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!