छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में 7 जवान शहीद !

एक बार फिर नक्सलियों ने खून की होली खेलते हुए छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित दंतेवाड़ा जिले में नक्सलियों ने बुधवार को सीआरपीएफ के काफिले पर हमला कर दिया। काफिला मैलावाड़ा इलाके में जिस रास्ते से गुजर रहा था, वहां नक्सलियों ने लैंडमाइन बिछा रखी थी। ब्लास्ट इतना ताकतवर था कि सीआरपीएफ के सात जवान मौके पर ही शहीद हो गए। एक गाड़ी का इंजन 100 मीटर दूर तक जा गिरा। मौके पर छह फीट गहरा गड्ढा हो गया। काफिले में तीन गाड़ियों में 30 जवान मौजूद थे।

घटना के वक्त जवान नकुलनार से आ रहे थे। लेकिन मेलावाड़ में हमला हो गया। यह जगह दंतेवाड़ा 12 किमी दूर है।जब भी जवानों का मूवमेंट होता है, तो रोड ओपनिंग पार्टी चलती है। चूंकि इस इलाके में पहले कभी हमला नहीं हुआ था, इसलिए पहले से कोई इंतजाम नहीं किए गए। ना रोड ओपनिंग पार्टी साथ थी, ना ही सीआरपीएफ यह पता लगा पाई कि इस इलाके में भी नक्सली लैंडमाइन बिछा सकते हैं।
बकौल दंतेवाड़ा के एएसपी आरके साहू ने जवानों के शहीद होने की बात कन्फर्म की है। यह गाड़ी सीआरपीएफ की 230th बटालियन से जुड़ी थी। घायलों को हेलिकॉप्टर की मदद से रायपुर ले जाया जा रहा है।ब्लास्ट इतना जबरदस्त था कि गाड़ी का इंजन अलग होकर 100 मीटर दूर जा गिरा। माना जा रहा है कि नक्सलियों ने ब्लास्ट के लिए 25 से 30 किलोग्राम एक्सप्लोसिव लगे आईईडी का इस्तेमाल किया होगा।
पुलिस पार्टी मौके पर पहुंच चुकी है। जवानों की बॉडी और घायलों को निकाला जा रहा है।

बताया जा रहा है कि हमले को नक्सलियों की दरभा डिविजन ने अंजाम दिया है। ये वही डिविजन है जिसने झीरम घाटी में कांग्रेसी नेताओं के काफिले पर 2013 में हमला किया था। इसमें वीसी शुक्ल सहित कांग्रेस के बड़े नेता मारे गए थे।बस्तर आईजी एसआरपी कल्लूरी घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं।कुआंकोंडा पुलिस और डॉक्टरों की टीम मौके पर पहुंच चुकी है।बताया जा रहा है कि ब्लास्ट के बाद नक्सलियों ने फायरिंग भी और जवानों के हथियार भी लूटकर ले गए।

शहीद जवान ..

एएसआई विजय राज, कांस्टेबल नाना उदय सिंह, हेड कांस्टेबल प्रदीप तिर्की, हेड कांस्टेबल रंजन दास, कांस्टेबल जल्ला राजिंदर, कांस्टेबल केद्रासु और कांस्टेबल मृत्युंजय मुखर्जी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!