गोपालगंज: सरकारी जमीन पर बना मुखिया का टूटा घर, हाईकोर्ट के आदेश पर हटाया गया अतिक्रमण

गोपालगंज के कटेया प्रखंड की अमेया पंचायत की मुखिया द्वारा सरकारी जमीन पर अतिक्रमण कर बनाए गए मकान को मंगलवार को प्रशासन ने हाईकोर्ट के आदेश के बाद तोड़ दिया। मुखिया के मकान के साथ-साथ छह और लोगों के निर्मित मकान को तोड़कर अतिक्रमण को खाली करा लिया गया। प्रशासन की इस कार्रवाई के दौरान भारी संख्या में पुलिस बल तैनात रही।

बता दें कि कटेया प्रखंड के अमेयां पूर्वी टोला निवासी प्रमोद बैठा की पत्नी कलांती देवी अमैया पंचायत की मुखिया है। इनके पति द्वारा धोबही पोखर के भीठ की जमीन को अतिक्रमण कर उस पर अपना मकान बना लिया गया था। इसके अलावा छह अन्य लोगों ने भी इस जमीन को अतिक्रमण कर वहां अवैध निर्माण कराया गया था। इस मामले को लेकर गांव के ही एक व्यक्ति द्वारा हाई कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। जिसके आलोक में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने गोपालगंज जिला प्रशासन को पोखर के भिठ की जमीन को अतिक्रमण मुक्त कराने का आदेश दिया था। जिस आदेश के आलोक में मंगलवार को कटेया सीओ अफजल हुसैन के नेतृत्व में पंचदेवरी बीडीओ आनंद कुमार विभूति, कटेया बीडीओ राकेश कुमार चौबे, थानाध्यक्ष अश्वनी कुमार तिवारी, सहित जिला मुख्यालय से महिला और पुरुष पुलिस बल की मौजूदगी में जेसीबी से अतिक्रमण को हटाने का कार्य शुरू किया गया। इस दौरान मुखिया के मकान के आधे हिस्से को प्रशासन ने तोड़कर गिरा दिया। साथ ही पास ही स्थित स्वामी बैठा, दीनानाथ बैठा, वीरेंद्र बैठा, माधव बैठा, शिवजी बैठा और केवल मांझी के मकान को भी तोड़ दिया गया।

प्रशासन द्वारा की गई इस बड़ी कार्रवाई को लेकर अतिक्रमणकारियों में हड़कंप मच गया है। यह पहला मौका है जब प्रशासन ने कटेया प्रखंड में किसी जनप्रतिनिधि के मकान को तोड़कर अतिक्रमण को हटाया है।

One thought on “गोपालगंज: सरकारी जमीन पर बना मुखिया का टूटा घर, हाईकोर्ट के आदेश पर हटाया गया अतिक्रमण

  • November 11, 2019 at 10:02 am
    Permalink

    कटेया प्रखंड के पडरिया पंचायत के मुखिया द्वारा भी सरकारी जमीन पर जो उत्तक्रमित मध्य विद्यालय जयसौली के दखल कब्जा में बरसों से था ,बिद्यालय द्वारा बार्षिक रिपोर्ट में भी हर एक साल भेजा जा रहा था उस पर अबैध कब्जा कर अपना मकान और बैठका बनवा लिया गया है उसको भी अपने न्यूज़ के माध्यम से जिलाधिकारी महोदय के संज्ञान में डाल कर मुक्त कराया जाए

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!