Thu. Aug 22nd, 2019

मुख्यमंत्री एवं उप मुख्यमंत्री ने किया जादोपुर-मंगलपुर पुल का उदधाटन !

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गोपालगंज के जादोपुर थाने के विशुनपुर मे गंडक नदी पर बने जादोपुर-मंगलपुर पुल का उदधाटन किया। उदधाटन के मौके पर उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव भी मौजुद थे। गोपालगंज और बेतिया को जोडनेवाले इस पुल के उदधाटन समारोह मे गोपालगंज सहित बेतिया के सासंद एवं विधायक मौजुद रहे।

सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हाजीपुर में प्रधानमंत्री की सभा मे मैने कहा था कि बिहार के विकास के बिना देश का विकास नहीं हो सकता, यही बात प्रधानमंत्री ने भी कही। बिहार के विकास में राजनीति को नहीं आने देंगे। सभी का साथ लेकर विकास करते रहेंगे। लोगों ने हम पर विश्वास जताया है। इस विश्वास को टूटने नहीं देंगे। हम हरेक इंसान की समस्याओं को दूर करने की कोशिश करेंगे। मुख्यमंत्री विशुनपुर में गंडक नदी पर 548 करोड़ की लागत से बने जादोपुर-मंगलपुर महासेतु का उद्घाटन करने के बाद लोगों को संबोधित कर रहे थे। उन्होने कहा कि गोपालगंज और बेतिया के विकास के लिए यह पुल काफी उपयोगी साबित होगा। आवागमन की सुविधा से विकास के दरवाजे खुलते हैं। इस पुल के दोनों तरफ एप्रोच सड़क बनाने के लिए 279 करोड़ की योजना स्वीकृत की गयी है। एप्रोच रोड़ से एनएच 28 तथा बेतिया के स्टेट हाइवे 54 से सीधा संपर्क हो जाएगा। उन्होंने कहा अब बिहार के किसी भी सुदूर इलाके से पटना पहुंचने के लिए पांच घंटे का लक्ष्य निर्धारित कर पुल व सड़क का निर्माण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बिहार की 76 प्रतिशत आबादी खेती पर निर्भर है। लेकिन मौसम का मिजाज बदल रहा है। समय से वर्षा नहीं हो रही है। वैसी परिस्थिति में कैसा फसल चक्र अपनाया जाए, इस पर पूसा कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक कार्य कर रहे हैं। इसके लिए पूसा में बारलोक संस्था (बिसा) की स्थापना की गयी है। अपने सात निश्चय का जिक्र करते हुए सीएम ने कहा कि 250 आबादी वाले हर गांव को पक्की सड़क से जोड़ा जाएगा। गांव की गली का पक्कीकरण, नाली, घर घर में पानी तथा बिजली पहुंचायी जाएगी। गांव में ही शहर की सुविधा मिलेगी।जिससे बिहार के लोगो का शहरों के तरफ हो रहे पलायन रुकेगा। बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को दोहराते हुए उन्होंने मंच पर बैठे भाजपा सांसद व विधायक की तरफ इशारा कतरे हुए कहा कि हम साथ मिलकर काम कर चुके हैं। तब भाजपा भी बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग में साथ थी। अब हम भले ही अलग हो गए हैं। लेकिन बिहार की परिस्थिति नहीं बदली है। बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिलेगा तो टैक्स में रियायत मिलेगी। इससे कल कारखाने खुलेंगे। यहां के लोगों को रोजगार के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। बल्कि बाहर के लोग रोजगार के लिए बिहार आएंगे। इससे पूर्व अपने संबोधन में उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि कहा कि जादोपुर मंगलपुर पुल के बन जाने से दोनों जिलों के बीच की दूरी पचास किलोमीटर कम हो गयी है। यह मेरा गृह जिला है, इस मौके पर लोगों से खुशी बांटने आए हैं। गंड़क नदी पर बन रहे सत्तर घाट पुल भी एक साल में बन कर तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि आवागमन की सुविधा को बढ़ाने के लिए मास्टर प्लान तैयार किया गया है। सभी तीन मीटर की चौडी सडको को पांच मीटर तथा पांच मीटर चौड़ी सड़क को सात मीटर चौड़ा किया जाएगा ।पुराने सभी पुल को आरसीसी में बदला जाएगा। उन्होने कहा कि हम विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। जनता ने महागठबंधन के नेता नीतीश कुमार तथा लालू प्रसाद को जिताया है। विकास के दम पर हम 2019 में लाल किला पर झंडा फहराएंगे। उन्होने कहा कि विकास में राजनीति नहीं होनी चाहिए। विकास में केंद्र का भी सहयोग मिलना चाहिए।

समारोह को गन्ना उद्योग विकास मंत्री खुर्शीद आलम उर्फ फिरोज अहमद, गोपालगंज के सांसद जनक राम, बेतिया के सांसद संजय जायसवाल, विधायक सुभाष सिंह पथ निमार्ण विभाग के प्रधान सचिव ने भी संबोधित किया। बिहार राज्य पुल निमार्ण निगम के निदेशक बिनय कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन किया।सभा के दौरान  मंच पर बरौली विधायक नेमतुल्लाह, हथुआ विधायक रामसेवक सिंह, कुचायकोट विधायक अमरेंद्र कुमार पाण्डेय, जदयू प्रदेश महासचिव एवं पूर्व विधायक मंजीत कुमार सिंह, पूर्व विधायक बिनय बिहारी राजद जिलाध्यक्ष रेयाजुल हक राजू, जदयू जिलाध्यक्ष प्रमोद कुमार पटेल,कांग्रेस के जिला महासचिव राजेश पाठक  आदि भी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!