Mon. Aug 26th, 2019

गोपालगंज में सूखे का दिखने लगा है असार, किसानो के सामने मंडराने लगी है अकाल की छाया

गोपालगंज में सूखे के असार साफ दिखने लगे है। यहाँ मानसून की पहली बारिश भी हुई। इस बारिश के बाद किसानो के चेहरे भी खिल उठे। उन्होंने अपने खेतो में धान का बिचड़ा भी डालना शुरू कर दिया। लेकिन वह सिर्फ एक दिन बरसने के बाद बादल गायब हो गए है। अब किसान महंगे डीजल से अपने खेतो का पटवन कर रहे है। किसानो के सामने अकाल की छाया साफ़ मंडराने लगी है।

गोपालगंज के किसान इन दिनों खासे परेशान है। उनकी परेशानी का कारण मौसम की बेरुखी है। किसानो के मुताबिक इस बार मानसून समय से काफी देर से आया। मानसून की बारिश भी हुई। जिससे किसानो को उम्मीद थी की अच्छी बारिश से खेतो में पानी भर जायेगा। जिससे वे खेतो में धान का बिचड़ा डाल सकेंगे। लेकिन बारिश महज थोड़ी सी हुई. जिसकी वजह से खेतो में नमी तो लौट आई। लेकिन इतना पानी भी नहीं हुआ जिससे उन्हें खेतो में पटवन न करना पड़े। अब किसान डीजल पम्पिंग सेट से खेतो में पटवन कर रहे है। समय से काफी विलम्ब होने की वजह से उनकी धान की बिचड़ा सूखने लगा है। किसान दोबारा बिचड़ा लगाने में जुटे है।

किसानो का कहना है की पिछले तीन साल से मौसम की दगा की वजह से खेती पर बुरा प्रभाव पड़ा है। बंटाई पर खेत लेकर उन्होंने खेती की थी। लेकिन हर बार उन्हें घाटा उठाना पड़ रहा है। इस बार भी किसान भगवान भरोसे खेती कर रहे है। किसानो का कहना है की अगर समय समय पर बारिश हुई तो उनकी फसल बच जाएगी इसके साथ ही उनके परिवार का खर्चा भी साल भर चल जायेगा। लेकिन बारिश नहीं हुई तो फिर उनके सामने बदहाली आ जाएगी।

बता दे की जून महीने में औसतन 172.8 मिलीमीटर बारिश की आवश्यकता होती है। जबकि अभी तक मात्र 62.4 मिलीमीटर ही बारिश हुई है। जो औसत से बहुत कम है। किसानो के मुताबिक लगातार 5 दिन बारिश के बाद खेती की नमी बरक़रार रहेगी। जिससे अच्छी पैदावार होगी। लेकिन बारिश नहीं होने से सूखे के असार साफ़ दिखने लगे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!