सदन और बिलों को पास कराने से रोकना विकास में बाधा डालना है – मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र ने संसद में अहम बिल पास कराने के लिए सभी सांसदों को न्‍यौता देते हुए कहा कि प्रशासन को जवाबदेह बनाने वाले बिल में सहयोग करे। संसद के बिल लोकतंत्र के बुनियाद को मजबूत बनाने के लिए होते हैं। संसद के बिल इसलिए कि सिस्‍टम के दलालों को दूर किया जा सके। सिस्‍टम से दलालों को खत्‍म करने के लिए यह बिल जरूरी है।

पीएम ने कहा कि देशहित के तमाम बिल लटके पड़े हैं। इसलिए बिल पास कराने में विपक्ष सहयोग करें। जीएसटी बिल भी आपका (कांग्रेस) ही है। सदन की बैठकों को रोकना और बिलों को पास कराने से रोकना विकास में बाधा डालना है। सदन न चलने से विपक्ष का ज्‍यादा नुकसान होता है। सदन के न चलने से देश पीडि़त है।

PM नरेन्द्र मोदी आज गुरूवार को संसद में राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर धन्‍यवाद प्रस्‍ताव पर बोल रहे थे। पीएम मोदी ने लोकसभा में आज कहा कि मैं राष्‍ट्रपति का धन्‍यवाद करता हूं। ये जनता की आशाओं को पूरा करने का प्रयास है। सभी सांसदों की तरफ से हम स्‍पीकर महोदय का भी धन्‍यवाद करते हैं। हमें स्‍पीकर की सलाह माननी चाहिए। स्‍पीकर ने पिछले कई महीनों में कई नई पहल की हैं।

पीएम ने कहा कि पिछले दिनों जो सदन में हुआ, उससे देश पीडि़त है। इसलिए बहस के दौरान सदन की गरिम बनी रहनी चाहिए। कई मुद्दों पर सरकार को अपने पक्ष में सफाई देनी होती है। पीएम ने नेहरू, राजीव के भाषणों का भी जिक्र किया। राजीव गांधी ने भी एक बार कहा था कि सदन की गरिमा बनी रहे। उन्‍होंने ने कहा था कि सबको अपनी बात रखने का मौका मिले। ये बोल मेरे नहीं है बल्कि पूर्व पीएम राजीव गांधी के हैं। और हमें अपने बड़ों की बात जरूर माननी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!