भारतीय मूल के 19 वर्षीय प्रभजोत को एक दिन के लिए बनाया गया कनाडा का प्रधानमंत्री

किसी भी देश का प्रधानमंत्री बनाना कोई आसान काम नही है इसके लिए आपको कई वर्षों तक राजनेता के टूर पर काम कर अपना एक खास ओहदा बनाना पड़ता है लेकिन 19 वर्षीय प्रभजोत के लिए तो बिलकुल आसानी से हो गया और वो भी इतनी छोटी उम्र में। खुद प्रभजोत लखनपाल को भी भरोसा नहीं हो पा रहा है कि कनाडा का प्रधानमंत्री बनने का उसका सपना पूरा हो चुका है।

दरअसल, ढाई साल पहले जब प्रभजोत कैंसर की गंभीर बीमारी से जूझ रहा था तब उसने कनाडा का प्रधानमंत्री बनने की इच्छा जताई थी। जब वह ठीक होकर वापिस घर लौटा तो यह बात भूल चुका था। लेकिन ‘मेक अ विश’ संस्था को याद था। लिहाजा प्रभजोत को एक दिन के लिए कनाडा का प्रधानमंत्री बनाया गया।

प्रभजोत इस बारे में खुशी से बताता है, ‘एक दिन के पीएम के तौर पर ओटावा के पार्लियामेंट हिल पर जाना अद्भुत था। किसी और देश में ऐसा नहीं हो सकता। मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसा होगा।’‘मैं ओस्गुड हॉल लॉ स्कूल से पढ़ना चाहता हूं। मेरा लक्ष्य राजनेता बनना है जिससे मैं बेहतर तरीके से देशवासियों की सेवा कर सकूं।’ मेक अ विश फाउंडेशन को धन्यवाद देते हुए वह कहता है, ‘मैं कैंसर से लड़ा हूं। इससे बदतर कुछ भी नहीं हो सकता। आगे भी लड़ता रहूंगा।’

प्रभजोत के परिजन भारत में पंजाब के मंडी अहमदगढ़ में रहते थे। वो 1988 में कनाडा आ गए थे। उसके पिता सुरिंदर लखनपाल ऑटो मैकेनिक हैं। वे प्रभजोत की मां और बहन के साथ उसे लेकर टोरंटो पहुंचे। एयरपोर्ट पर आरसीएमपी के जवान, अधिकारियों और मेक अ विश के अफसरों ने उनका स्वागत किया।

इसके बाद उसे पार्लियामेंट हिल के पास चतेऊ लॉरियर होटल ले जाया गया। प्रभजोत को प्रेसिडेंशियल सुईट में ठहराया गया। सुरिंदर बताते हैं, ‘अगले दिन कनाडा के गवर्नर जनरल डेविड जॉन्सटन ने पीजे का स्वागत किया। उन्होंने देश के विकास को लेकर उसके विचार भी जाने। पीएम जस्टिन ट्रुडो भी उससे मिले।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!