गोपालगंज पहुंचे शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, कुशवाहा राजनैतिक विचार मंच को किया संबोधित

गोपालगंज के मीरगंज में स्थित साहू जैन हाई स्कूल के प्रांगण में कुशवाहा राजनैतिक विचार मंच के बैनर तले कुशवाहा समाज को एकजुट करने के लिए सम्मेलन का आयोजन किया गया था। जिसमे सूबे के शिक्षा व विधि मंत्री कृष्णनंदन वर्मा भी पहुंचे।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सूबे के शिक्षा, विधि व समाज कल्याण मंत्री कृष्णनंदन वर्मा ने कहा कि बिहार का हर क्षेत्र में विकास हुआ है। विकास की यह गति अभी आगे भी जारी रहेगी। नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में बिहार अपराधमुक्त वातावरण का माहौल बनाने में सफल रहा है। सूबे में नीतीश जी का कोई विकल्प नही है ।

शिक्षा मंत्री ने अपने संबोधन में ने कहा कि राज्य में कुशवाहा समाज ने परिवर्तन लाने के लिए एकजुट होकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को मजबूत करने का काम किया। जिसकी बदौलत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश में समावेशी विकास करने का काम किया है। उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की बिजली सुधार करने की घोषणा की याद दिलाते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा था कि यदि प्रदेश में बिजली व्यवस्था मे सुधार नहीं हुआ तो वोट मांगने नहीं आऊंगा। परंतु उन्होंने कथनी को करनी में बदलने का काम किया है। बिजली की बदौलत किसानों और ग्रामीण क्षेत्रों में खुशहाली आई है। उन्होंने कहा कि जर्जर भवन में चल रहे 22 हजार से अधिक विद्यालयों का भवन निर्माण कार्य इसी सरकार के कार्यकाल में हुआ है। प्रदेश में सड़कों का जाल बिछा है। अस्पतालों का निर्माण हुआ है। देश के इतिहास में पहली बार एक साथ चार लाख शिक्षकों का नियोजन करने का नीतीश सरकार ने काम किया है। मंत्री ने रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि कुशवाहा समाज से केंद्र में बने शिक्षा मंत्री ने अपने आखिरी कार्यकाल में उन्हें बिहार की याद आयी । जिसमे सरकार के शिक्षा व्यवस्था पर उन्हें गहरी नाराजगी हुई। सरकार में आखरी कस तक मजा लेने का काम किया और जिस विभाग के मंत्री थे उसी के सुधार के लिए धरना प्रदर्शन करने लगे। मैं भी इसी समाज से आता हूँ और मैन उनसे के बार आग्रह किया कि आप बताये की इसमे कैसे सुधार किया जाए अपर वो रास्ता बताने की बजाए सरकार पर आरोप लगन ज्यादा उचित लगा । वे कुशवाहा समाज को बरगलाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने मंचा से कहा कि यदि कभी उन्होंने कोई लिखित शिकायत या सुझाव दिया हो तो उसे सार्वजनिक करें ।

हथुआ विधायक सह सचेतक रामसेवक सिंह ने कहा कि पहले जंगल राज स्थापित रखने वाले परिवारवाद को बढ़ावा देने वाली सरकार में लोग मुख्यमंत्री के साले, मामा, मौसीहर तक को लोग जानते थे। परंतु आज मुख्यमंत्री के बेटे का भी नाम प्रदेश के लोग नहीं जानते हैं। जिस प्रदेश को लोग पहले जंगल राज के नाम से जानते थे। उस प्रदेश को अब लोग विकास के नाम पर जानते हैं। गया के टिकारी विधानसभा क्षेत्र के विधायक सह जदयू के युवा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अभय कुशवाहा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कुशवाहा को उसका हक देने का काम किया है। मुख्यमंत्री के नियति और नियत में कोई फर्क नहीं है। कुशवाहा समाज नीतीश कुमार के साथ एकजुट है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!