गोपालगंज में खेत मे काम कर रहे किसान और उसके बेटे की बिजली की करंट से दर्दनाक मौत

गोपालगंज में खेत में पटवन कर रहे किसान और उसके बेटे की बिजली की करंट से दर्दनाक मौत हो गयी. मौत के बाद किसान के घर में कोहराम मच गया. जबकि घटना के बाद स्थानीय लोग आक्रोशित हो गये और बिजली विभाग के खिलाफ एनएच 28 जाम कर जमकर हंगामा और आगजनी की. लोगो के हंगामा और आगजनी की वजह से एनएच 28 पर कई किलोमीटर लम्बा जाम लग गया. घटना सिधवलिया के बलिछापर गाँव की है. 45 वर्षीय मृतक किसान का नाम हरेन्द्र यादव और उसके 15 वर्षीय मृतक बेटे का नाम शैलेश कुमार है.

जानकारी के मुताबिक हरेन्द्र यादव अपने बेटे के साथ बलिछापर स्थित अपने खेत में गेहू की पटवन कर रहे थे. इस खेत के ऊपर से हाई टेंशन तार काफी निचे तक गुजरा हुआ है. जिसको लेकर ग्रामीणों ने पहले भी बिजली विभाग को कई बार पत्र लिखकर तार को ऊपर करने की मांग की थी. लेकिन बावजूद इसके तार को ऊपर नहीं किया गया. जिसकी वजह से आज जैसे पिता पुत्र खेत में काम करने गए. वे हाई टेंशन तार 33 हजार की चेपेट में आ गए. जिसकी वजह से उनकी दर्दनाक मौत हो गयी. मौत के बार स्थानीय लोग ने शव को मोहम्मदपुर के झझवा के समीप एनएच 28 पर रखकर हंगामा और आगजनी शुरू कर दिया. मृतक के परिजनों को मुआवजा की मांग कर रहे ग्रामीणों के आक्रोश की वजह से एनएच 28 पर मुजफ्फरपुर और गोरखपुर जाने वाली इस सड़क पर कई किलोमीटर लम्बा जाम लग गया.

परिजनों को सांत्वना देने पहुचे पूर्व विधायक मंजीत सिंह ने मृतक के परिजनों को चार चार लाख रूपये मुआवजा और बिजली विभाग के लापरवाह दोषी अधिकारिओ के खिलाफ कारवाई की मांग की है. मंजीत सिंह ने कहा की इस इलाके में हाई टेंशन तार काफी तक लटका रहता है. जिसको लेकर विभाग को कई बार सूचित किया गया. बावजूद इसके अबतक तार को दुरुस्त नहीं किया गया. जिसकी वजह से यह हादसा हुआ है.

वही हंगामा कर रहे ग्रामीणों को समझाने पहुचे सिधवलिया के बीडीओ विजय कुमार सिंह ने कहा कि आपदा प्रबंधन विभाग के द्वारा मिलने वाला मुआवजा राशि चार चार लाख रूपये परिजनों को कागजी करवाई पूरी करने के बाद दे दी जाएगी. बीडीओ ने कहा की इस मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद मृतक के परिजनों को मुआवजा देने का प्रवधान है.

बहरहाल ग्रामीणों को समझा बुझाकर कई घंटे की मशक्कत के एनएच 28 से जाम को हटा दिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!