गोपालगंज में दरोगा पर घूसखोरी का आरोप, अरोपियो को पकड़ने के लिए एलईडी टीवी की मांग

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भले ही सिद्धांत की बात करते हो. लेकिन उनकी बिहार पुलिस ऐसे किसी सिद्धांत को मानने के लिए तैयार नहीं है. ताजा मामला सिधवलिया थाना में कार्यरत दरोगा मिथिलेश कुमार सिंह से जुड़ा है. जो केस में अरोपियो को पकड़ने के लिए एलईडी टीवी की मांग करते है. पीड़ित ने सिधवलिया थाना में रंगदारी मांगने और धमकी देने का केस दर्ज किया था. लेकिन केस दर्ज करने के कई माह बाद भी आरोपी खुलेआम घूम रहे है. जबकि दरोगा उनकी गिरफ़्तारी के लिए मोटी रकम की मांग कर रहे है.

जरा इस ऑडियो क्लिप को धयान से सुनिए. ये ऑडियो क्लिप सिधवलिया थाना में तैनात एएसआई मिथिलेश कुमार सिंह का है. इस ऑडियो क्लिप में एक तरफ से केस करने वाले पीड़ित युवक का आवाज है. युवक से दरोगा से बात करते हुए बोलते है की अब आपके केस का सुपरविजन सदर इंस्पेक्टर करेंगे. इंस्पेक्टर साहब को भी बोल दिया गया है की इस केस का सुपरविजन कर दे. पैसा वैसा मिल ही गया है. अब वो सुपरविजन में अरोपियो के खिलाफ आदेश निकाल देंगे तो उनकी गिरफ़्तारी के लिए छापामारी किया जायेगा. फिर दोबारा दरोगा पूछते है की क्या हुआ टीवी का अभी तक टीवी नहीं मिला है. अभी तक टीवी नहीं ख़रीदा गया है. जल्दी से खरीदवा दो.

दरअसल मामला सिधवलिया के थाना काण्ड संख्या 93/2018 से जुड़ा हुआ है. इस केस में सिधवलिया के ढेया सुपौली गाँव के तीन लोगो को नामजद किया गया है. जिसमे उन्होंने पीड़ित से रंगदारी की मांग करते हुए जान से मारने की धमकी दी है. इसी मामले में अभी तक कोई भी आरोपी गिरफ्तार नहीं हुआ.

पीड़ित विद्या भूषण सिंह ने बताया की उनसे सुपरविजन के नाम पर सदर इंस्पेक्टर के द्वारा 07 हजार रूपये की मांग की गयी. उसका भुगतान करने के बाद वहा से सुपरविजन निकाल दिया गया. उसके बाद सिधवलिया थानाध्यक्ष ने केस के नाम पर 05 हजार रूपये लिए. और अब केस के आईओ एएसआई मिथिलेश कुमार सिंह उसे 15 हजार रूपये की मांग किया. उन्होंने 05 हजार रूपये नगद लेने के बाद अब एलईडी टीवी की डिमांड शुरू कर दी है. पीड़ित के मुताबिक अभी तक किसी भी आरोपी की गिरफ़्तारी नहीं हुई है. जिसको लेकर उन्होंने सिधवलिया थानाध्यक्ष से लेकर हर जगह गुहार लगायी. लेकिन उसकी बात सुनने वाला कोई नहीं है और अब जानकारी के मुताबिक एएसआई ने सभी अरोपियो को थाना से ही बैक डेट में बेल दे दिया है. जबकि तीनो अरोपियो में से एक आरोपी के ऊपर हत्या का मामला दर्ज है. बावजूद इसके अभी तक किसी की गिरफ़्तारी नहीं हो सकी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!