Mon. Aug 26th, 2019

गोपालगंज एसआईटी ने गिरफ्तार प्राचार्य को भेजा जेल, आंसर शीट घोटाले में पटना से हुए थे गिरफ्तार

गोपालगंज एसआईटी ने आखिरकार गिरफ्तार प्रिंसिपल प्रमोद कुमार श्रीवास्तव को मंगलवार को जहा जेल भेज दिया है. वही एसएस बालिका इंटर कॉलेज के प्रिंसिपल को जेल भेजे जाने से और भी कई गंभीर सवाल खड़े हो गए है. गिरफ्तार प्रिंसिपल ने बिहार बोर्ड पर गंभीर सवाल खड़े किये है. प्रिंसिपल प्रमोद कुमार श्रीवास्तव ने कहा की वह मैट्रिक के आंसर शीट गायब होने के मामले में खुद सूचक है. उसने ही इसकी जानकारी बोर्ड प्रशासन को दी और उसके बाद नगर थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज कराया. फिर किसी भी केस के सूचक को कोई कैसे गिरफ्तार कर सकता है.

बता दे की बीते दिनों गोपालगंज के एसएस बालिका इंटर कॉलेज के स्ट्रोंग रूम से मैट्रिक मूल्यांकन के रखे गए 216 बैग यानी 42500 कॉपिया गायब हो गयी थी. इतनी संख्या में कॉपियो के गायब होने के बाद बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड पर मूल्यांकन को लेकर कई सवाल खड़े हुए थे. जिसके बाद इस मामले में स्कूल के आदेशपाल छठू सिंह, नाईट गार्ड आसपुजन सिंह, कबाड़ी व्यवसायी पप्पू कुमार गुप्ता और टेम्पू चालक संजय कुमार जको गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था.

इसी मामले में कॉलेज के प्रिंसिपल प्रमोद कुमार श्रीवास्तव को पटना बोर्ड ऑफिस से गिरफ्तार किया गया था. गिरफ्तार किये आरोपी प्राचार्या ने आज मीडिया को बताया की उसे पटना से गिरफ्तार करने के बाद शनिवार ही पूछताछ के बाद उन्हें रिहा कर दिया गया था. लेकिन कल सोमवार को उन्हें दोबारा गिरफ्तार कर आज जेल भेजा जा रहा है. आंसर शीट मामले में वे सिर्फ सूचक थे. उन्होंने पुलिस को मदद की थी. लेकिन उन्हें क्यों गिरफ्तार किया गया. इसकी जानकारी नहीं है. उन्हें फंसाया गया है. वे इस मामले में निर्दोष है. कॉपियो के सुरक्षा की जिम्मेदारी ऊपर के पदाधिकारियो की थी. उनसे पूछताछ क्यों नहीं हो रही है.

वही इस मामले में राजद किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अरुण कुमार सिंह ने सरकार और जिला प्रशासन पर हमला बोला है. उन्होंने कहा की प्रिंसिपल ने ही एफआईआर किया था. उन्हें ही गिरफ्तार किया गया है. लेकिन यहाँ कॉपी से पहले से गयाब हो रही थी. मामला तो सिर्फ इस बार खुला है. राजद ने सरकार से मांग की है की इस मामले की बढ़िया से जाँच करायी जाए. नहीं तो राजद छात्र हीत में उग्र आन्दोलन करेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!