गोपालगंज में दहेज और बाल विवाह के खिलाफ मानव श्रृंखला के गवाह बनें 12.94 लाख लोग

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराब के बाद अब दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ जागरूकता अभियान चलाया हुआ है. इसी कड़ी में गोपालगंज में आज रविवार (21 जनवरी) को मानव श्रृंखला बनाई गई. गोपालगंज शहर स्थित मिंज स्टेडियम में डिएम राहुल कुमार एवं एसपी रविरंजन कुमार समेत कई पदाधिकारी, नेतागण एवं स्कूली बच्चो इकट्ठा होकर इस आयोजन में शामिल होकर लोगों से बाल विवाह और दहेज प्रथा के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान किया. पूरे जिले से 12.94 लाख 30 मिनट तक एक-दूसरे का हाथ थाम कर इसका हिस्सा बनें रहे. यह राज्यव्यापी शृंखला 12:00 से 12:30 बजे तक रहा. लोग एक दूसरे के हाथ थाम कर सामाजिक बुराइयों के खिलाफ लड़ने का प्रण लिया है. इस मानव श्रृंखला से नीतीश सरकार का शराबबंदी के समर्थन में बनाई मानव श्रृंखला का रिकॉर्ड टूट जाएगा.

गोपालगंज डिएम राहुल कुमार ने कहा कि शराबबंदी के बाद अब बाल विवाह एवं दहेज प्रथा जैसी कुरीति पर कड़ी चोट करने की जरूरत है. बाल विवाह अभी 39 प्रतिशत है, इसके साथ ही बड़ी संख्या में महिलायें दहेज प्रथा की शिकार हो रही हैं. उन्होंने कहा कि लोग गरीबी, अशिक्षा, कुरीति के कारण बाल विवाह करते हैं, इसका दुष्परिणाम काफी गंभीर होता है. मुख्यमंत्री ने कहा कि 21 साल से कम उम्र के लड़के और 18 साल के कम उम्र की लड़की की शादी नहीं होने का कानून है, लेकिन बाल विवाह होता है. बाल विवाह के पश्चात लड़कियों को काफी कष्ट झेलना पड़ता है. अगर लड़की कम उम्र में गर्भ धारण करती है तो प्रसव के दौरान बच्चा एवं मां की मौत की आशंकाये बढ़ जाती है और बच्चे को जन्म के बाद बीमारी की संभावना रहती है.

गौरतलब है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गत 2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर दहेज प्रथा और बाल विवाह के खिलाफ अभियान छेड़ते हुए इसको लेकर लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए 21 जनवरी को मानव श्रृंखला बनाने की अपील की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!