समस्या के समाधन के लिए प्रयास जरुरी

जो समाज अपनी समस्याओं के समाधान करने का स्वयं प्रयास नहीं कर सकता , उसकी सहायता ऊपर वाले भी नहीं करते हैं। अपने समुदया को इकट्ठा करना जरुरी है। उक्त बातें अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री अब्दूल गफूर ने उर्दू काॅलेज गोपालगंज परिसर में आयोजित सारण डीविजन उर्दू कांन्फ्रेंस में कही। इस अवसर पर मंत्री ने समाज के विकास पर कई सुझाव दिये। उन्होंने कहा कि समाज में उत्पन्न समस्याओं के समाधान के लिए जो प्रयास करते हैं, उन्हें ही ऊपर वाले भी मदद करते हैं। समाज की तरक्की के लिए समाज को जोड़ना जरुरी है। आपसी मतभेद को दूर करने का प्रयास करना चाहिए। समाज को संगठित किये बिना विकसित समाज की कल्पना करना असंभव है। उन्होंने कहा कि सूबे के सभी सरकारी विद्यालयों में एक-एक उर्दू शिक्षक की बहाली की जाएगी। इस प्रकार बिहार में 72 हजार उर्दू शिक्षकों की बहाली की जाएगी। इस अवसर पर काॅलेज में बेहतर प्रदर्षन करने वाले छात्रों को पुरष्कृत कर सम्मानित किया गया। साथ ही अल्पसंख्यक मंत्री को अंजुमन तरक्की ए उर्दू बिहार के उपाध्यक्ष मराजुद्दीन तिश्ना के नेतृत्व में 20 सूत्री मांग पत्र सौंपा गया। इन मांगों में सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली अल्पसंख्यक स्काॅलरशीप की जानकारी अंजुमन तरक्की उर्दू को देने, बीस सूत्री कार्यक्रम में अंजुमन का एक सदस्य शामिल करने, तमाम स्कूलों आॅर काॅलेजों में उर्दू शिक्षक बहाल किए जाएं, हाईस्कूल के पाठ्यक्रम में फारसी जबन लाजमी करार देने, तालीमी वर्ष के प्रारंभ में ही उर्दू किताबें दी जाए, उर्दू शिक्षक की ट्रेनिंग का प्रबंध करने, अल्पसंख्यक के बेरोजगार नौजवानों को माकूल वर्ग दिया जाए, अकलीयत की तलाकशुदा व बेवा महिलाओं की कल्याण राशि का तरीका आसान बनाया जाए, हर जिला में अंजुमन का कार्यालय चलाने के लिए सरकारी भवन में एक कमरा की व्यवस्था करने, अंजुमन के ग्रांट को एक करोड़ तक बढ़ाने सहित अन्य मांगे शामिल थीं। मौके पर नौशद आलम, बरौली विधान सभा क्षेत्र के राजद विधायक म0 नेमतुल्लाह, रिटायर्ड चीफ इंजीनियर अब्दूल हमीद, उर्दू काॅलेज के प्रधानाचार्य जुल्फेकार अहमद सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!