पार्टी के मना करने के बाद भी शरद यादव ने चलाई अपनी मनमानी, हो सकते है जेडीयू से बाहर

जेडीयू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और पार्टी के वरिष्ठ नेता शरद यादव तीन दिनों के लिए बिहार यात्रा पर जा रहे हैं। वहां वो जनता के पास जाकर गठबंधन टूटने के पिछे के कारणों और उसके बारे में जनता का फैसला जानने की कोशिश भी करेंगे। लेकिन उनकी इस यात्रा से उनकी पार्टी गुस्से में हैं, सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पार्टी के जो नियम है, शरद उनका उल्लंघन कर रहे हैं। उन्होंने अपनी यात्रा के बारे में पार्टी को नहीं बताया है और इस वजह से पार्टी उनके खिलाफ बड़ी कार्रवाई कर सकती है। जेडीयू ने शरद को एक नोटिस भी भेजा है जिसमें उन्होंने कहा है कि, “जो भी जेडीयू का कार्यकर्ता शरद के कार्यक्रम में जाएगा उस पर पार्टी कड़ी कार्रवाई करेगी।” उनके पटना आने से पहले जेडीयू से निकाले गए गुजरात के पार्टी महासचिव अरुण श्रीवास्तव भी आज सुबह पटना पहुंच चुके थे। साथ ही शरद की बिहार यात्रा को लेकर जेडीयू ने कहा है कि, “ये उनकी अपनी यात्रा है और पार्टी को इससे कोई मतलब नहीं है।”

बता दें कि बिहार में महागठबंधन टूटने के बाद नितीश कुमार ने बीजेपी से हाथ मिलाकर जो धोखा दिया उस बात से शरद यादव नितीश से काफी नाराज है। और अपनी बिहार यात्रा शुरू करने से पहले भी शरद यादव ने ये बताया है कि, “महागठबंधन के टूटने से उन्हें सबसे बड़ी ठेस पहुंची है। और साथ ही बिहार की 11 करोड़ जनता का भरोसा भी टूट गया है।” शरद ने साथ ही ये भी कहा है कि, “हमारे बहुत कोशिश करने के बाद महागठबंधन बना था। और हमने तीन हैलीकॉप्टर से बीजेपी के 26 हैलीकॉप्टर का मुकाबला करा था। शरद यादव ने साथ ही में ये भी कहा है कि, “मुश्किल बहुत बड़ी है और जब भी मैं परेशान होता हूं और जब भी मन के अंधेरे मे घिर जाता हूं, तो उजाले के लिए लोगों के बीच मे जाता हूं और इसीलिए मैं बिहार यात्रा कर रहा हूं।”

शरद के इस कड़वे और बड़े बयान के तुरंत बाद ही जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव और प्रवक्ता केसी त्यागी का जवाब आया जिसमें उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि, “शरद एसा कुछ भी नहीं करेंगे जिससे जेडीयू कमजोर हो।” हालांकि त्यागी ने यह भी कहा है कि पार्टी के खिलाफ कोई भी गलत करेगा तो वो बर्दाश नहीं होगा। एेसे में त्यागी के कड़वे बयान को देखते हुए यह भी हो सकता है कि शरद यादव अगर अनुशासन तोड़ने की कोशिश करेंगे तो पार्टी को भी मजबूर होकर शरद को पार्टी से बाहर निकालना पड़ेगा।

दूसरी तरफ शरद की यात्रा को लेकर लालू यादव ने भी बड़ा बयान दिया और कहा कि, ‘शरद यादव का आरजेडी के साथ गठबंधन था और रहेगा।” साथ ही उन्होंने नितीश यादव पर आरोप लगाते हुए कहा है कि शरद के पटना पहुंचते ही नितीश उनपर हमला कर सकते है। शरद के बिहार यात्रा को लेकर गड़बड़ी की आशंका जताने वाले लालू प्रसाद के बयान पर जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा कि एेसा कहीं भी कुछ होगा, तो इसके लिए आरजेडी और लालू प्रसाद ही जिम्मेदार होंगे। जेडीयू के कार्यकर्ताओं को इस बात को लेकर सचेत रहना चाहिए। पार्टी के प्रवक्ता निखिल रंजन ने यह कहा है कि शरद यादव को जल्दी ही पता चल जाएगा कि नीतीश कुमार ने जो भी फैसला किया है वह सही था। साथ ही उन्होंने कहा है कि आज कैसे शरद के आदर्श तेजस्वी और तेजप्रताप यादव बन गए हैं, और समाजवादी नेता भ्रष्टाचारियों के साथ ऐसा होगा ये दुख कि बात है और शरद यादव की यात्रा से पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला और ना ही पड़ेगा।

बता दें कि शरद यादव की पहली सभा सारण जिले के सोनपुर में आयोजित हुई है। वह नीतीश कुमार के बीजेपी से हाथ मिलाने के फैसले को लेकर काफी ज्यादा नाराज हैं और इस मुद्दे को लेकर वह जनता से सीधे बात करना चाहते है और इसी कारण से वह बिहार यात्रा पर आए है। और अपने तीन दिनों के दौरान उन्होंने आठ जिलों में जाने का फैसला किया है। शरद आज दिल्ली से पटना जाएंगे और एयरपोर्ट से ही सोनपुर के लिए रवाना हो जाएंगे।

आपको बता दें कि शरद यादव ने अपने इस कार्यक्रम को ‘जनता से सीधा संवाद’ नाम दिया है। और जिन जिलों की वह यात्रा करेंगे उनमें सारण, वैशाली, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, मधुबनी, सुपौल, सहरसा एवं मधेपुरा शामिल हैं।

शरद यादव की इस यात्रा को जेडीयू पार्टी विरोधी साजिश मान रही है। पार्टी को खबरों से मिली जानकारी में बताया है कि यह मसला जेडीयू की 19 अगस्त को आयोजित राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में उठाया जा सकता है और साथ ही उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जा सकती है। हालांकि शरद यादव भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की इस बैठक में शामिल होंगे। और वहा इस बात की घोषणा पहले की कर चुके हैं। जेडीयू के बीजेपी से हाथ मिलाने के बावजूद शरद यादव लगातार बीजेपी पर हमला कर रहे हैं। साथ ही वह राज्यसभा में भी विभिन्न मसलो पर केंद्र की आरजेडी सरकार को घेर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!