गोपालगंज के सुन्दरपट्टी में दो दिन पूर्व हुई गोलीकांड में घायल यूवक की हुई मौत

गोपालगंज नगर थाना क्षेत्र के बसडीला गाँव के स्व० रामदास राम के 25 वर्षीय पुत्र संजय राम को दो दिन पूर्व नगर थाना के सुन्दरपट्टी में मोटर साइकिल एवं पास में मौजूत कीमती सामान लूटने के दौरान अपराधियो ने गोली मार दी थी। जिससे संजय बुरी तरह घायल हो गए थे। प्राथमिकी उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए संजय को गोरखपुर रेफर कर दिया गया था। जहाँ आज इलाज के क्रम में उनकी मौत हो गेई।

गौरतलब है की नगर थाना क्षेत्र के बसडीला गाँव के स्व० रामदास राम के पुत्र नगेन्द्र राम अपने भाई संजय राम के साथ मोटर साइकिल द्वारा 02 अगस्त की रात अपने घर से थावे रेलवे स्टेशन के लिए जा रहे थे। थावे रेलवे स्टेशन से नगेन्द्र राम को थावे से लखनऊ जाना था। फिर लखनऊ एयरपोर्ट से फ्लाइट के द्वारा ओमान जाना था। नगेन्द्र राम को क्या पता था कि जब हम घर से अपने भाई संजय राम के थावे रेलवे स्टेशन के लिए जा रहे है। यह साथ हमेशा के लिए ख़त्म हो जाएगा। नगेन्द्र राम का कहना कि जब हम दोनो भाई घर से थावे रेलवे स्टेशन के लिए निकले तो रास्ते में सुनरपट्टी गाँव के छठ घाट के पास पहले से घात लगाकर अपराधी बैठे हुए थे। जैसे ही हम दोनों भाई रात्रि के 11 बजे के करीब में घाट के पास पहुँचे तो अपराधियों ने हम दोनों भाई को रोका। रोकने के बाद हमसे अपराधियों ने मोटर साईकल की माँग किया। हमने मोटर साईकल अपराधियों के दे दिए। उसके बाद अपराधियों ने फिर मोबाइल की माँग किया। जिसको लेकर हमदोनों भाइयों ने अपराधियों को मोबाइल देने से मना किया। जिसके बाद अपराधियों के साथ हमदोनों से बकझक हुई। इसी बकझक को लेकर अपराधियों ने 25 वर्षीय संजय राम को पेट में गोली मार दिए। जिससे संजय राम वही पर गिर कर घायल हो गया। तब नगेन्द्र राम ने 100 पर कॉल किया तो थावे थाना ने कॉल उठाया। कॉल उठाने के बाद नगेन्द्र राम ने घटना के बारे में बताया। थावे थाना तुरंत हरकत आई और 20 मिनट के अंतराल में घटनास्थल पर पहुँचकर संजय राम को देर न करते हुए सदर अस्पताल में भर्ती कराया। जहा ईलाज़ करने के बाद हालात की गम्भीरता को देखते हुए डॉक्टरों ने संजय राम को गोरखपुर रेफर कर दिया। जहाँ गोरखपुर में ईलाज़ के दौरान संजय राम का मौत हो गई।

संजय राम घर में सबसे छोटा था। वह भी मस्कत में रहकर काम करता था। मस्कत में टारगेट इंजीनयर कॉन्ट्रैक्शन कम्पनी में काम करता था। जो कि वह पिछले साल नवम्बर में घर आया था और इस महीने के अंत में इसी कंपनी के द्वारा दुबई जाना था। लेकिन होनी को कुछ और ही होना था। अनहोनी को भला कौन टाल सकता है। संजय राम की शादी बीते 8 दिसम्बर 2016 को हुई थी। अभी शादी के ज़्यादा दिन भी नही हुए थे की यह घटना घट गया।

जैसे ही घरवालो को संजय राम के मरने की खबर मिली तो घर में कोहराम मच गया। घर के सभी लोग दहाड़ मार कर रोने लगे।
जिस मोटरसाइकिल के लिए हत्या हुई है वह मोटर साईकल हीरो कंपनी के स्पेलन्डर प्लस है। जिसका नम्बर BR-28-Q-6757 है। इसी मोटर साईकल को लेकर अपराधियों ने संजय राम को गोली मार दिया। जिसके बाद अपराधियों ने मोटरसाईकल और एक मोबाइल लेकर फरार हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!