आतंकवाद पर भारी पड़ी भक्तों की आस्था, पहले जैसे उत्साह के साथ जारी है अमरनाथ यात्रा

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सोमवार(10 जुलाई) को पाक परस्त आतंकियों ने अमरनाथ यात्रियों की बस पर हमला कर दिया। इसमें सात श्रद्धालुओं की मौत हो गई। जबकि 32 अन्य घायल हो गए हैं। घायलों में से अभी भी कई की हालत नाजुक बनी हुई है। उन्हें अनंतनाग और श्रीनगर के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है, जहां उनका इलाज चल रहा है।

अमरनाथ यात्रा रोकने के इरादे से निहत्थे श्रद्धालुओं पर गोलियां बरसाने वाले आतंकियों को शिव भक्तों ने करारा जवाब दिया है। श्रद्धालुओं ने यह साबित कर दिया है कि कोई आतंकी हमला आस्था पर भारी नहीं पड़ सकता, क्योंकि आतंकी हमले के बाद भी पहले जैसे उत्साह के साथ ही अमरनाथ यात्रा जारी है। यात्रा के लिए गुरुवार(13 जुलाई) को 3,500 तीर्थयात्रियों का जत्था जम्मू से कश्मीर के लिए रवाना हुआ।

श्रीनगर में हुए हमले के बाद कड़ी सुरक्षा के बीच जत्था रवाना किया गया। भोले बाबा के दर्शन को लेकर श्रद्धालुओं में गजब में उत्साह देखने को मिल रहा है। शिव के भक्त जोश के साथ हर-हर महादेव…, बम भोले जैसे जयकारे लगाते हुए बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए आगे बढ़ रहे हैं।

सात शिव भक्तों की मौत के बाद अमरनाथ यात्रा पर जाने वाले बहादुर श्रद्धालुओं की हिम्मत की जमकर सराहना हो रही है। अधिकारियों के मुताबिक, सुबह 3.25 बजे 153 गाड़ियों के काफिले के साथ 3,500 श्रद्धालुओं का पहला जत्था भगवती नगर यात्री निवास से रवाना हुआ।

बता दें कि अभी तक 1.68 लाख अमरनाथ तीर्थयात्री बर्फानी बाबा के दर्शन कर चुके हैं। बुधवार(12 जुलाई) को यात्रा का 14वां दिन रहा। यह 40 दिवसीय यात्रा 29 जून को शुरू हुई थी और सात अगस्त को समाप्त होगी। इस यात्रा से एक बात तो साफ है कि अमरनाथ श्रद्धालुओं पर हुए आतंकी हमले के बाद भी शिव भक्तों की आस्था में कोई कमी नहीं आई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!