Thu. Aug 22nd, 2019

एंबुलेंस ड्राइवर ने शव ले जाने के बदले मांगे 2500 रुपए, मोटरसाइकल पर ले जाना पड़ा पत्नी की लाश

बिहार के एक सरकारी अस्पताल द्वारा डेडबॉडी ले जानी वाली गाड़ी देने से मना करने और शव को घर तक ले जाने के लिए प्राइवेट एंबुलेंस का इंतजाम न करने का मामला सामने आया है। यह मामला उत्तर-पूर्वी बिहार के पूर्णिया जिले का है।

श्रीनगर कोतवाली क्षेत्र के रानीबाड़ी गांव के रहने वाले 60 साल के शंकर शाह की 50 साल की बीवी सुशीला देवी का बीमारी के कारण सदर बाजार के अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई थी। शाह ने इस मामले की जानकारी देते हुए कहा कि बीवी के मरने के बाद उन्होंने मेडिकल स्टाफ से शव को अपने घर ले जाने के लिए एंबुलेंस का इंतजाम करने के लिए कहा, लेकिन उन्होंने हमें अस्पताल की एंबुलेंस देने से मना कर दिया। उन्होंने हमसे कहा कि खुद ही शव को अपने गांव ले जाने का इंतजोम करो।

इसके बाद उन्होंने एंबुलेंस के ड्राइवर से जाकर विनती की तो ड्राइवर शाह से 2,500 रुपए मांगे, जिसका वे इंतजाम नहीं कर पाए। जब कहीं से भी मदद नहीं मिली तो शाह के बेटे पप्पू ने सुशीला के शव को मोटरसाइकल पर ले जाने का फैसला किया।

स्थानीय मीडिया के रिपोर्ट के अनुसाल इसके बाद शाह सुशीला के शव को मोटरसाइकल पर ही अपने गांव अंतिम संस्कार के लिए ले गए। इस बारे में जब अस्पताल के सिविल सर्जन MM वसीम से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि आज के समय में सदर अस्पताल में एक भी एंबुलेंस उपलब्ध नहीं है। अस्पताल में एक एंबुलेंस है जो कि कार्यात्मक नहीं है, इसलिए लोगों को खुद ही एंबुलेंस का इंतजाम करना पड़ता है।

इस मामले की जानकारी जिलाधिकारी पंकज कुमार पाल को लगी तो उन्होंने कहा कि यह बहुत ही निंदनीय घटना है और इसकी जांच के आदेश  दिए जा चुके हैं। इस मामले की जांच के लिए दो सदस्यीय कमेटी का गठन भी किया गया है, जिन्हें दो दिन के अंदर इस मामले की पूरी जांच कर अपनी रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है।

आपको बता दें कि शंकर शाह और उनका बेटा पप्पू दोनों ही पंजाब में रहकर दिहाड़ी पर मजदूरी का काम करते हैं। परिवार सदस्यों द्वारा फोन कर उन्हें सुशीला के बीमार होने की खबर दी गई थी, जिसके बाद दोनों तुरंत ही बिहार आ गए। इसके बाद उन्होंने अपनी पत्नी सुशीला को अस्पताल में भर्ती कराया जहां पर उसकी मौत हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!