गोपालगंज महिला हेल्प लाइन: घरेलू हिंसा पीड़ितों के लिए वरदान साबित हो रही है

बिहार सरकार के समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित महिला हेल्प लाइन घरेलू हिंसा के पीड़ितों के लिए काफी मददगार साबित हो रही है. वर्षों से दो दिलों के बीच आई कड़वाहट को मिठास में बदलने और घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं को न्याय दिलाने में यह हेल्प लाइन अपनी अहम भूमिका निभा रही है. इस बाबत महिला हेल्प लाइन की परियोजना प्रबंधक नाजिया परवीन ने बताया कि महिला हेल्प लाइन घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं को इन्साफ दिलवाती है.

यह इन्साफ कई स्तरों से गुजरने के बाद मिलती है. ख़ास कर दहेज़ प्रताडन एवं पति और ससुराल के लोंगों से घरेलु हिंसा से पीड़ित होती है. वैसा ही मामले महिला हेल्प लाइन में आती है. अभी तक महिला हेल्प लाइन गोपालगंज में 964 घरेलू हिंसा एवं 394 दहेज़ प्रताडन से जुड़े मामले दर्ज किये गए हैं. इन दर्ज मामलों में क्रमशः 899 एवं 380 मामलों को निष्पादित भी किया जा चुका है.

उन्होंने बताया कि हाल ही में बरौली थाना क्षेत्र के सुरवाल गाँव की संध्या देवी को दहेज़ प्रताडन के दर्ज मामले में हेल्प लाइन द्वारा इन्साफ दिलवाई गयी है. पीड़िता संध्या के दर्ज मामले के अनुसार उसके सास ससुर दहेज़ की माँग को लेकर अक्सर उसके साथ गली गलौज एवं मार पिट करते थे साथ ही साथ धमकी भी देते थे की अगर उनकी द्वारा माँग की गयी चीज़े उन्हें नहीं मिली तो वो अपने बेटे की दूसरी शादी कही और कर देंगे. जिसका वह विरोध करने लगी. इसी वजह से उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया गया. वह महिला हेल्प लाइन से इन्साफ की गुहार लगायी. मामला दर्ज कर दोनों पक्षों की सुनवाई की गयी.

परियोजना प्रबन्धक नाजिया परवीन ने बताया कि दोनों पक्षो के बीच काफी कड़वाहट आ चुकी थी. एक दूसरे को देखना तक पसंद नहीं करते थे. लेकिन महिला हेल्प लाइन ने दोनों पक्षो को नोटिस कर काउंसिलिंग की. कई स्तरों पर दोनों पक्षों के दिलों में घुली कड़वाहट को मिठास में बदलने की कोशिश की गयी. अंततः दोनों पक्षों की कड़वाहट घुल गयी और दोनों पक्षों के बीच समझौता हो गया. ख़ुशी ख़ुशी संध्या अपने पति राहुल के घर चली गयी और रह भी रही है. प्रबन्धक नाजिया परवीन ने बताया कि घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं को हेल्प लाइन में बिना किसी खर्च के ही इन्साफ दिलायी जाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!