बिहार में बारिश का कहर: 15 की मौत, राज्य सरकार ने किया चार-चार लाख रुपये मुआवजे का ऐलान

बिहार में मंगलवार को अहले सुबह आंधी-पानी के साथ हुए तेज बारिश के कारण राज्य में भारी जान-माल की क्षति हुई है. इस दौरान वज्रपात और दीवार व पेड़ गिरने से 17 से अधिक लोगों की मौत हो गयी है, जबकि तीन दर्जन से अधिक लोग घायल हो गये. हालांकि, आधिकारिक रूप से 15 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है. साथ ही हजारों एकड़ में लगी फसल नष्ट हो गयी. नुकसान की गंभीरता को देखते हुए विशेष बैठक के लिए दिल्ली गए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वहीं से इसकी समीक्षा की और आलाधिकारियों को निर्देश दिया कि नियमानुसार मृतक के परिजनों को चार-चार लाख का अनुग्रह अनुदान उपलब्ध कराया जाए.

आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार आंधी-पानी के साथ हुई बारिश के दौरान वज्रपात में सबसे अधिक लोग हताहत हुए. 15 लोगों में से 8 लोगों की मौत वज्रपात से हुई. जबकि बाकी अन्य लोगों की मौत तूफान के कारण दीवार, इमारत, पेड़-आदि गिरने से हुई. राज्य सरकार ने सभी मृतकों के परिजनों को चार-चार लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है.

आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बताया कि समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने मृतक परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है. साथ ही निर्देश दिया कि मृतक के शोक संतप्त परिवारों को जल्द चार-चार लाख की अनुग्रह अनुदान की राशि उपलब्ध करा दी जाये. मुख्यमंत्री ने तूफान के दौरान राज्य के खेत -खलिहान में हुए फसलों के नुकसान के सर्वेक्षण कर उसके नुकसान की भरपाई का निर्देश दिया है. उन्होंने बताया कि 15 मृतकों में से 14 के परिजनों को मुआवजे की राशि उपलब्ध करा दी गयी है.

कहां कितनी मौतें जिला मौत

मधुबनी 03

बेगूसराय 02

औरंगाबाद 02

लखीसराय 02

सुपौल 02

नालंदा 01

मुंगेर 01

पूर्णिया 01

अररिया 01

पटना 01

दरभंगा 01

आंधी-तूफान का भारी असर

– 60-70 किलोमीटर की गति से आयी आंधी के बीच काले बादल और मूसलधार बारिश से पूरी तरह अंधेरा छा गया

– नेशनल हाइवे पर गाड़ियों का परिचालन ठहर-सा गया

– ट्रेन सेवा भी बाधित हुई.

– अधिकतर इलाके में घंटों बिजली आपूर्ति ठप रही

– आम व लीची की फसल को पहुंची है भारी क्षति

मृतक का नाम जिला

श्रवण कुमार(32 वर्ष), पटना

पीपल कुमार (12 वर्ष), नालंदा

धर्मेंद्र चौधरी (24 वर्ष), लखीसराय

नीतू देवी (20 वर्ष), लखीसराय

सुनील कुमार (63 वर्ष), पूर्णिया

सोनू कुमार (15 वर्ष), औरंगाबाद

रामाधार सिंह (55 वर्ष), औरंगाबाद

प्रकाश यादव (45 वर्ष), मधुबनी

विंदेश्वर यादव (47 वर्ष), दरभंगा

मालती देवी (55 वर्ष), सुपौल

सत्यनारायण मंडल (25 वर्ष), अररिया

मीणा देवी (43 वर्ष), बेगूसराय

चुनचुन देवी (51 वर्ष), बेगूसराय

संदीप मंडल, मधुबनी

नीलम देवी (45 वर्ष), मुंगेर

(आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जारी)

सबसे अधिक मौत बिजली गिरने से

आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबित सबसे अधिक सात लोगों की मौत बिजली गिरने से हुई है. इसके बाद चार लोगों की मौत आंधी में पेड़ गिरने के कारण हुई है. बेगूसराय में दो लोगों की मौत दीवार गिरने से हुई है. उन्होंने बताया कि कृषि विभाग समन्वय कर फसलों की क्षति का आकलन किया जा रहा है. मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद इसका जिलाधिकारियों ने सर्वेक्षण का काम शुरू कर दिया गया है. इसके अलावा घायलों की जानकारी जिलों से प्राप्त की जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!