पीएम ने किया पतंजलि के आयुर्वेदिक रिसर्च इंस्टीट्यूट का उदघाटन, रामदेव बोले-मोदी ‘राष्ट्र ऋषि’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज बाबा केदारनाथ के दर्शन के बाद पंतजलि के आयुर्वेदिक रिसर्च इंस्टीट्यूट का उद्घाटन करने हरिद्वार पहुंचे हैं. जहां योगगुरु बाबा रामदेव ने पीएम मोदी को राष्ट्र के लिए भगवान की देन बता डाला. बाबा रामदेव और उनके सहयोगी बालकृष्ण ने प्रधानमंत्री का राष्ट्र ऋषि के रूप में सम्मान किया. पीएम मोदी ने बुधवार को हरिद्वार में बाबा रामदेव के पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट का उद्घाटन किया.

प्रधानमंत्री केदारनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद पतंजलि पहुंचे. इस मौके पर बाबा रामदेव ने कहा कि आज योग और आयुर्वेद एक हो गए हैं. योगगुरु बाबा रामदेव का कहना है आज का दिन न सिर्फ पतंजलि योगपीठ के लिए बल्कि पूरे देश के लिए गौरव की बात है. उन्होंने कहा कि पतंजलि अनुसंधान संस्थान के पीएम के हाथों उद्घाटन के बाद योग और आयुर्वेद एक हो गए हैं. जहां उन्होनें योगगुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया.

योगगुरु रामदेव ने हरिद्वार में पीएम मोदी का अभिवादन करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी ने देश का गौरव बढ़ाया है. उन्होंने यहां कहा कि मोदी देश को वरदान के रूप में मिले हैं. उनका राष्ट्र ऋषि के रूप में सम्मान होना चाहिए. वह राष्ट्र ऋषि के रूप में हमेशा याद किए जाएंगे. बाबा रामदेव ने साथ ही कहा कि देश में अमीर-गरीब, छोटा-बड़ा, पिछड़ा-दलित, यहां की 125 करोड़ आबादी मोदी जी अपना स्वरूप देखता है. बाबा रामदेव ने इसके साथ ही कहा, पीएम ने भारत को विश्व गुरु का दर्जा दिलाया. मोदी में विश्व का नेतृत्व करने का सामर्थ्य है. जो भी मोदी जी कर रहे हैं उसमें एक आहूति मेरी भी होगी.योगगुरु रामदेव और आचार्य बालकृष्ण ने पीएम मोदी का सम्मान करते हुए उन्हें उनकी एक तस्वीर भेंट की. जिसके बाद प्रधानमंत्री ने उद्घाटन के बाद पूरे संस्थान का खुद जायज़ा लिया और उसकी खासियतों को जाना.

रिसर्च इंस्टीट्यूट में क्या है ख़ास? 

पतंजलि के आयुर्वेद रिसर्च इंस्टीट्यूट में करीब 200 वैज्ञानिक अलग-अलग जड़ी बूटियों पर रिसर्च होगा. आयुर्वेद रिसर्च इंस्टीट्यूट के साथ बाबा रामदेव ने एक हर्बल गार्डन भी तैयार किया है. आपको बता दें कि यह रिसर्च सेंटर करीब 200 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया गया है. यह देश का सबसे बड़ा आयुर्वेदिक रिसर्च सेंटर है.

पहले केदारनाथ में की पूजा-अर्चना

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रुद्रप्रयाग जिले में स्थित भगवान शिव के धाम केदारनाथ में पूजा-अर्चना करने पहुंचे. बाबा केदारनाथ के कपाट खुलने के बाद सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाबा का वैदिक मंत्रोच्चार के बीच रुद्राभिषेक किया. पीएम मोदी ने मंदिर में करीब आधे घंटे तक भगवान शिव की पूजा-अर्चना की. इसके बाद पीएम मोदी जब बाहर आए तब उन्हें वहां के पुजारियों ने विशेष स्मृति चिह्न भी भेंट किए. उन्हें केदारनाथ मंदिर की लकड़ी की बनी एक छोटी सी प्रतिकृति के अलावा एक तस्वीर और एक पटका दिया गया.

पीएम मोदी का पहला दौरा

गौरतलब है कि राज्य में सरकार के शपथग्रहण में शामिल होने के बाद पीएम मोदी का यह पहला उत्तराखंड दौरा है. इससे पहले विधानसभा चुनाव के दौरान उन्होंने राज्य में कई विशाल जनसभाओं को संबोधित किया था. पीएम के कुशल नेतृत्व में राज्य में बीजेपी को जबर्दस्त सफलता मिली और पार्टी राज्य की सत्ता में आ गई. विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने कांग्रेस को मात देते हुए 70 में से 57 सीटों पर कब्जा जमाया था. इस पहाड़ी राज्य में इस प्रचंड बहुमत के बाद राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रचारक रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत उत्तराखंड के मुख्यमंत्री बने थे. उनके शपथ-ग्रहण समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल हुए थे.

बाबा रामदेव ने मेरी जिम्मेदारी बढ़ा दी

पीएम मोदी ने कहा कि मुझे केदारनाथ जाकर बाबा के दर्शन करने का सौभाग्य मिला और वहां से आप सबके बीच आने और आशीर्वाद पाने का मौका मिला. उन्होंने कहा, ‘जिन लोगों ने मेरा लालन-पालन किया, शिक्षा दी, उनसे मैं भली-भांति जानता हूं कि आपको जो भी सम्मान मिलता है, उसके पीछे लोगों की अपेक्षाएं होती हैं. ऋषि का सम्मान देकर देकर उन्होंने मेरी जिम्मेदारियां बढ़ा दी.’ बाबा ने इस तरह सम्मान देकर मुझे सरप्राइज दे दिया.’ उन्होंने कहा कि मुझे देश के लोगों पर खुद से ज्यादा भरोसा है, वे मेरी ऊर्जा का स्त्रोत हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!