छापेमारी करने गई पुलिस पर कैदियों ने बोला हमला, एएसपी को जान बचाकर भागनी पड़ी

छपरा- जिले में आये दिन अपराधियो का मनोबल बढ़ता ही जा रहा है जहाँ एक तरफ सुरक्षा को लेकर खतरा आम नागरिकों को था वही दूसरे तरफ आज पुलिस भी शिकार हो जा रही है ताजा मामला बुधबार के सुबह छपरा मंड़ल कारा का है रंगदारी मांगने की सूचना पर जेल में बंद कैदी अरूण साह से पूछताछ करने पहुंची पुलिस पर कैदियों ने हमला कर दिया। हमले में छापेमारी करने गयी पुलिस के तीन जवान गंभीर रूप से जख्मी हो गए हैं, जबकि छापेमारी का नेतृत्व कर रहे एएसपी ने भागकर अपनी जान बचानी पड़ी।

जेल में बंद कुख्यात अपराधी अरूण साह ने मंगलवार को छपरा के प्रोपर्टी डीलर से दस लाख रूपए की रंगदारी मांगी थी। रंगदारी की सूचना मिलने पर बुधवार को छपरा पुलिस अरूण साह से पूछताछ करने जेल पहुंची। पुलिस के जेल के अंदर प्रवेश करते ही अरूण साह ने जेल में बंद कैदियों के साथ मिलकर पुलिस पर हमला बोल दिया ।
कैदियों की ओर से की गयी जमकर पथराव में तीन पुलिसकर्मी गंभीर रूप से जख्मी हो गए। जबकि एएसपी को भागकर अपनी जान बचानी पड़ी। जख्मी पुलिसकर्मी को इलाज के लिए छपरा सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने इस मामले में अपराधी अरुण साह के खिलाफ FIR दर्ज करवायी है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अरुण साह के वार्ड से दो मोबाइल भी बरामद किए गए है।

कुछ दिन पहले ही पुलिस ने अरूण साह को गिरफ्तार किया था। छपरा एसपी पंकज कुमार राज ने इस गिरफ्तारी के बाद कहा था कि अरूण पर लूट व हत्या के कई मामले दर्ज हैं। इसका चार जिलों में गिरोह चलता है। जो कि हत्या, लूट और अपहरण की घटना को अंजाम दिया करते हैं। अरूण ने ही रंगदारी की रकम नहीं मिलने पर साहेबगंज बुटन बाड़ी के बर्तन व्यवसायी भोला प्रसाद की हत्या करवा दिया था और व्यवसायी के पुत्र धीरज कुमार को गंभीर रूप से घायल कर दिया था।

एक दिन पहले प्रापर्टी डीलर से मांगी थी दस लाख की रंगदारी मंगलवार को मंडल कारा में बंद अपराधी अरूण साह ने शहर के एक प्रापर्टी डीलर से दस लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी। अपराधियों ने रंगदारी की रकम नहीं देने पर हत्या करवाने की धमकी दी थी ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected By Awaaz Times !!